सामाजिक सामंजस्य बनाने में योग की भूमिका महत्वपूर्ण -योगाचार्य धर्मचंद

विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर भगाने में भी लाभकारी योगाभ्यास।

सामाजिक सामंजस्य बनाने में योग की भूमिका महत्वपूर्ण -योगाचार्य धर्मचंद

स्वतंत्र प्रभात।
प्रयागराज।

प्रज्ञा योग साधना शोध एवं प्रशिक्षण संस्थान  द्वारा सहसों के शिवाजी इंटर कॉलेज में बच्चों को योगाभ्यास कराते हुए योगाचार्य धर्मचंद जी ने कहा कि सामाजिक  सामंजस्य बनाने में योग की भूमिका महत्वपूर्ण है । यह विभिन्न प्रकार की बीमारियों को दूर भगाने में भी लाभकारी है।

योग गुरु ने बताया कि  योग विद्या ऐसा गुण है जिसके लगातार करते रहने से गंभीर से गंभीर रोगों का बिना दवा के इलाज संभव है। छोटे बच्चे नियमित रूप से यदि योगासन करें तो खुजली, फोड़े- फुंसी, चिड़चिड़ापन , मौसमी बुखार, खांसी, सर्दी - जुखाम खत्म हो जाता है। 
  उन्होंने बच्चों को बताया कि चेचक कोई दैवीय प्रकोप नहीं बल्कि गर्मी का रोग है एवं यह अपच के कारण होता है ।यही कारण है कि बच्चे इसकी चपेट में ज्यादा आते हैं । 

  उन्होंने बच्चों को पद्मासन, सिद्धासन, स्वास्तिक आसन, सुखासन,वज्रासन आदि ध्यानात्मक आसान सिखाएं। तथा बच्चों को पढ़ाई में एकाग्रता वृद्धि हेतु ध्यान  का अभ्यास कराया। अंत में  योगाचार्य जी ने सभी बच्चों को मांसाहार को छोड़ने और शाकाहार अपनाने, ईमानदारी और कड़ी मेहनत करने, नशे से दूर रहने तथा समाज को अंधविश्वास मुक्त करने की शपथ दिलाई।
     विद्यालय के प्रधानाचार्य राम आशीष ने कहा कि बच्चों को चाहिए कि वह योगाचार्य द्वारा सिखाए गए योग को करेंगे तो वह पढ़ाई में होने वाले मानसिक दबाव से बच सकेंगे तथा उनका शरीर स्वस्थ होगा।

 मौके पर विद्यालय के रामेंद्र कुमार, गुलाब चंद्र पटेल,  अजीत सिंह आदि अध्यापक मौजूद रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel