साहित्य/ज्योतिष
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी।।

संजीव-नी।। संजीव-नी।। आनंद तो जीवन में चलते जाना ही हैंl    मुझे फेके गए पत्थर अपार मिले, फक्तियाँ,ताने बन कर हार मिले।    शौक रखता हूं सब के साथ चलने का, कही ठोकरे,कही जम कर प्यार मिले।    जीवन बीता आपा-धापी में ही यारों,...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 14.04.2024-दुष्टजनों से सावधान रहें। शारीरिक कष्ट से बाधा तथा हानि संभव है।

दैनिक राशिफल 14.04.2024-दुष्टजनों से सावधान रहें। शारीरिक कष्ट से बाधा तथा हानि संभव है।       आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार......       1.मेष    राजमान व यश में वृद्धि होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से परिचय होगा। सामाजिक कार्य करने की इच्छा रहेगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। काफी समय से लंबित कार्यों में गति आएगी। लाभ के अवसर बढ़ेंगे। कारोबारी...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 13.04.2024

दैनिक राशिफल 13.04.2024       आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार......       1.मेष    राजमान व यश में वृद्धि होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से परिचय होगा। सामाजिक कार्य करने की इच्छा रहेगी। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। काफी समय से लंबित कार्यों में गति आएगी। लाभ के अवसर बढ़ेंगे। कारोबारी...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 10.04.2024

दैनिक राशिफल 10.04.2024 आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार............    1.मेष    थोड़ी कोशिश से ही कार्यसिद्धि होगी। समाज में पूछ-परख बढ़ेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। छोटे भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। बाहर जाने का मन बनेगा। लाभ के...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 06.04.2024

दैनिक राशिफल 06.04.2024 आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार...........    1.मेष    आय के स्रोत विकसित होंगे। कुछ पुराने मित्रों से संपर्क बन सकते हैं। आज क्रोध और वाणी पर संयम बरतें। खान-पान में भी संयम बरतें। वैचारिक स्थिरता के साथ अपने हाथ में आए...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 02.04.2024

दैनिक राशिफल 02.04.2024 स्वतंत्र प्रभात  आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार......    1.मेष       आपको धैर्य एवं शांति बनाए रखने की आवश्यकता है, अन्यथा आप व्यावसायिक संदर्भ में नुकसान उठा सकते है। समाज में आपका सम्मान बढ़ेगा। नौकरी पहले की ही तरह सामान्य रूप     2.वृष...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीवनी। पृथ्वी का बचा रहना कितना अहम।

संजीवनी। पृथ्वी का बचा रहना कितना अहम। स्वतंत्र प्रभात  संजीवनी। पृथ्वी का बचा रहना कितना अहम।    मैं चाहता हूं पृथ्वी बची रहे और बची रहे मिट्टी  आग नदिया  चिड़िया झरने  पहाड़ हरे हरे पेड़ रोटी चावल  मक्का  बाजरा समंदर  पुस्तकें मनुष्य के लिए जी बची रहे पृथ्वी...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

दैनिक राशिफल 01.04.2024

दैनिक राशिफल 01.04.2024 स्वतंत्र प्रभात  आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार......    1.मेष       दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है, धैर्य रखें। किसी व्यक्ति से विवाद की आशंका है। पुराना रोग उभर सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। भागदौड़ रहेगी। अपेक्षित कार्यों में विलंब से...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

संजीव-नी। लंबी उम्र की ना दुआ किया करो।

संजीव-नी। लंबी उम्र की ना दुआ किया करो। संजीव-नी। लंबी उम्र की ना दुआ किया करो।    मोहब्बत में दर्द छुपा लिया करो, दर्द के छालों को छुपा लिया करो।    आशिकी छुपाना होती नहीं आसां, जमाने को मेरा नाम बता दिया करो।    हर दर्द की दास्तां होती है जुदा...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए

नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए कविता  नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए lचंचल ठहरे हमरे कान्हा जो राधिका को चाहे ll पुकार सुन्नत गोपियो की फिर भी ना पनघट पर आये lमगर एक झलक देखन को "प्यारी की" बरसाने छलिया बनकर...
Read More...
ज्योतिष  साहित्य/ज्योतिष 

अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। अपनों के साथ संयम से व्यवहार करें

अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। अपनों के साथ संयम से व्यवहार करें दैनिक राशिफल 31.03.2024    आचार्य कौशलेन्द्र पाण्डेय जी के अनुसार.......    1.मेष    तीर्थदर्शन की योजना बनेगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। आय के स्रोत बढ़ेंगे। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। प्रतिद्वंद्वी शांत रहेंगे। थकान रहेगी। व्यवसाय ठीक रहेगा। निवेश शुभ रहेगा। यात्रा...
Read More...
कविता/कहानी  साहित्य/ज्योतिष 

नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए

नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए कविता     नक्श नैन राधिका के है मोहन को भाए चंचल ठहरे हमरे कान्हा जो राधिका को चाहे पुकार सुन्नत गोपियो की फिर भी ना पनघट पर आये मगर एक झलक देखन को "प्यारी की" बरसाने छलिया बनकर जाये    सुनते ही...
Read More...