समाज के अंतिम पायदान तक विकास की बाते चुभने लगी जनता को

डेढ़ दशक से जनहित में जटहां बगहा पूल निर्माण की उठाई जा रही मांग

समाज के अंतिम पायदान तक विकास की बाते चुभने लगी जनता को

जटहां बगहा गंडक नदी पर नाव में सवार, जान जोखिम में डाल आर पार होते है ग्रामीण

ऑनलाइन न्यूज चैनल स्वतंत्र प्रभात

कुशीनगर।अब समाज की अंतिम पायदान तक विकास की बातें पिछड़े क्षेत्र के ग्रामीणों को चुभने लगी है इसलिए कि डेढ़ दशक से की जा रही जटहा बगहा पुल निर्माण की मांग पूरा करने की वादा के बावजूद धरातल पर अभी तक डीपीआर तो दूर सर्वे तक नहीं हो पाया तो कैसे माना जाए समाज की अंतिम पायदान तक होगा विकास।

बताते चलेगी उत्तर प्रदेश के जनपद कुशीनगर के उत्तर बड़ी गंडक नदी नदी जो नेपाल से निकलकर सोनपुर बिहार में जाकर की मिलती है इस नदी के एक तरफ जटहां बाजार तो दूसरी तरफ बगहा बिहार एक छोर से दूसरे छोर की शहर दिखाई देती है, जिसकी दूरी महज 7 किलोमीटर हैं, इस 7 किलोमीटर में बड़ी गंडक नदी बहती है जो पिछड़े क्षेत्र के उत्थान में बहुत बड़ी बाधक बनी हुई है।

उल्लेखनीय है कि विकास खंड विशुनपुरा में पिछड़े क्षेत्र के विकास के लिए जटहां बगहा पूल बनाओ संघर्ष समिति के लोगों द्वारा बीते डेढ़ दशक से सांसद और विधायकों से निरंतर मांग की जा रही है बल्कि एक आंदोलन के तहत आवाज उठाई जा चुकी है, लेकिन जनता की आवाज पिछड़े क्षेत्र में ही दबकर रह जाती है, क्षेत्र की जनता की बातों को सुनने के लिए शायद कोई नेता तैयार नहीं हो रहा है, यही वजह है कि आज पिछड़ा क्षेत्र पिछड़ा ही रह गया और मंचो पर पिटारा बजाया जाता है कि समाज की अंतिम छोर तक विकास की गति बढ़ाई जाएगी।

जटहां बगहा पुल निर्माण संघर्ष समिति के सदस्य प्रमोद रौनियार भारतीय जनता पार्टी बिशनपुरा मंडल अध्यक्ष राधेश्याम गुप्ता मंडल उपाध्यक्ष श्रीकांत जायसवाल प्रदीप जायसवाल ग्राम प्रधान मोहन कुशवाहा पूर्व ग्राम प्रधान भोला जायसवाल लल्लन व्याहुत ग्राम प्रधान उगनी देवी मुनीब भारती सुरेश जयसवाल सतीश गौतम नथुनी चौहान उमाशंकर मिश्र सहित 80 गांव के ग्राम प्रधानों द्वारा भारत सरकार में सड़क परिवहन और राजमार्ग, जहाज़रानी, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी कुशीनगर के लोकप्रिय सांसद विजय कुमार दुबे पडरौना सदर विधायक मनीष जायसवाल खड्डा विधायक विवेकानंद पांडे से अनुरोध कर जटहां बगहा पुल निर्माण कार्य हेतु नदी मार्ग का सर्वे कराकर डीपीआर बनवाने की मांग किया गया है।संघर्ष कमेटी के सदस्यों ने बताया हैं कि गंडक नदी पर पूल बनने से यूपी बिहार के रोटी बेटी का संबंध मजबूत होगा आयात निर्यात व्यापार बढ़ेगा पिछड़े क्षेत्र का बहुआयामी विकास शुरू हो जाएगा।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष