1947 आजादी के बाद भी एक गांव में अभी नहीं पहुंची सड़क

1947 आजादी के बाद भी एक गांव में अभी नहीं पहुंची सड़क

लाइट के जरूरत अनुसार ग्राम वासी अपने फंड से हर कॉलम पर लाइट लगवा रहे हैं


 विशेष संवाददाता हरिओम मिश्रा

गोडा गांव बहुवन मदार माझा मजरे बेनी सिंह पुरवा  पिछले 70 वर्षों से नई सड़क निर्माण का इंतजार कर रहा है सरकारे आती हैं जाती हैं लेकिन कोई भी सरकार इस ग्राम क्षेत्र में सड़क संबंधी कार्य नहीं किया सन 2014 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी थी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  बने थे l

 तब ग्रामीण वासियों में काफी भरोसा था कि अब कुछ इस ग्राम क्षेत्र में विकास कार्य होगा लेकिन गांव डेवलप के नाम पर धब्बा है सभी राजनीतिक दल इस गांव में आते हैं चुनावी वादा करके वापस चले जाते हैं चुनाव जीतने के बाद में कोई भी विधायक सांसद इस क्षेत्र का दौरा नहीं करता रही बात जब ग्राम प्रधान के यह बात ऊपर आती है ग्रामीण आवाज उठाते हैं कि सड़क का निर्माण करवाया जाए प्रधान महोदय का सीधा सा जवाब होता है कि इस  सड़क संबंधी में कोई बजट नहीं आता है मोदी सरकार बनने के बाद में इस ग्राम क्षेत्र में बिजली पहुंच गई है l

लाइट के जरूरत अनुसार ग्राम वासी अपने फंड से हर कॉलम पर लाइट लगवा रहे हैं बारिश के मौसम में यह  सड़कें नाले में तब्दील हो जाती हैं अगर कोई इस ग्राम क्षेत्र से बीमार पड़ जाए तो चारपाई का माध्यम लेकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचाया जाता है मजबूरी है कि सड़क पर कोई वाहन नहीं चल सकते सड़क निर्माण ना हो पाने से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है लगभग 6,हजार की आबादी इस सड़क पर चलने के लिए मजबूर है लगभग 4 किलोमीटर की सड़क है l

 जो घाघरा बांध से लेकर शाहपुर धनावा को जाती है यह गॉव की मुख्य सडक है ये सड़क निर्माण कराने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के सभी नगरीक विकास खंड कार्यालय  ब्लॉक परसपुर करनैलगंज गोंडा में धरना प्रदर्शन करने की तैयारी अब कर रहे हैं ग्रामीण वासियों ने संवाददाता से वार्तालाप में बताया कि इसी सड़क निर्माण से बरसों पुराने सपने गांव के पूरे होंगे जिससे गांव का विकास हो सकेगा l

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel