खबर का असर-डग्गामार स्कूलों के खिलाफ चला चाबुक     

खबर का असर-डग्गामार स्कूलों के खिलाफ चला चाबुक     

                                                                                                                                                             
अवैध स्कूल संचालित होने पर वसूला जाएगा जुर्मानाःबीईओ  
 
 
रुद्रपुर, देवरिया। जिला​​धिकारी के निर्देश पर अवैध तरीके से संचालित प्राईवेट स्कूलों के खिलाफ शनिवार को बेसिक शिक्षा विभाग ने कार्रवाई की। नगर सहित क्षेत्र में बिना मान्यता के संचालित चार स्कूलों को बंद कराया गया। विभाग की कार्रवाई से अवैध स्कूल संचालकों में हड़कंप मच गया। कई स्कूल संचालक ताला बंद कर फरार हो गए। बीईओ ने बिना मान्यता प्राप्त किए दोबारा स्कूल खुला पाए जाने पर मकान सीज कर ज़ुर्माना वसूलने की चेतावनी दी।
 
बता दें कि स्वतंत्र प्रभात ने शनिवार के ही अंक में स्कूलों की डग्गामारी को लेकर मुख्य पृष्ठ पर खबर प्रकाशित किया था। जिसका संज्ञान लेकर खण्ड शिक्षा अधिकारी राजकिशोर सिंह ने नगर के इमामबाड़ा ​स्थित ओपीएम सीटी मांटेसरी स्कूल का निरीक्षण किया। यहां टीनशेड में विद्यालय का संचालन हो रहा था। विद्यालय के मान्यता संबं​धित दस्तावेज स्कूल के संचालक उपलब्ध नहीं करा पाये। बीईओ ने तत्काल स्कूल बंद कराया। क्षेत्र के भगवानपुर पिपरा कछार ​स्थित द्विजराज ज्योति एकेडमी और माई नन्हे-मुन्हे स्कूल बिना मान्यता के चल रहे थे। 
 
स्कूल के छात्रों को भेज कर नजदीक के परिषदीय विद्यालय में नामांकन कराने को निर्दे​​शित किया।  चौहट्टा वार्ड में सरस्वती ज्ञान मंदिर स्कूल के मान्यता की जांच की। यहां स्कूल में मौजूद शिक्षक मान्यता के कागज नहीं दिखा पाए। स्कूल से बच्चों को घर भेजवा दिया गया। प्रबंधक को चेतावनी देते हुए स्कूल को तत्काल बंद करा दिया गया।  बीईओ ने कहा कि गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को बंद कराने के बाद उसमें पढ़ने वाले छात्रों को नजदीक के परिषदीय स्कूलों में एड‌मिशन कराया जा रहा है। क्षेत्र में सभी गैर मान्यता प्राप्त स्कूल बंद कराए जाएंगे। बंद कराए जाने के बाद भी स्कूल खुले पाए गए तो प्रबंधक और मकान मालिक के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।
 
 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष