पटहेरवा : सत्संग प्यास नही बुझाता परमात्मा के लिए पैदा करता है प्यास - पद्मेश जी महाराज

पटहेरवा : सत्संग प्यास नही बुझाता परमात्मा के लिए पैदा करता है प्यास -  पद्मेश जी महाराज

पटहेरवा, कुशीनगर। सत्संग प्यास नहीं बुझाता है। सत्संग तो परमात्मा के लिए प्यास पैदा करता है। जब मन वचन एक हो जाते हैं, तब जीवन में सुचिता आ जाती है। देव दर्शन, गुरू दर्शन और मन दर्शन से काया शुद्ध हो जाती है। रामचरित्र मानस हमें जीवन जीने की कला सिखाती है, जिसने रामचरित्र मानस का आश्रय कर लिया, उसके जीवन का उद्धार हो जाता है। रामचरित्र मानस जीवन को सुखमय बनाने का मार्ग प्रशस्त करती है। ये बाते रजवटिया में आयोजित श्री विष्णु महायज्ञ के दौरान अमृतमयी श्री राम कथा का रसपान कराते हुए सुप्रसिद्ध कथावाचक पद्मेश जी महाराज ने कही। 

     रामायण हमें रिश्तों की मर्यादा के पालन का पाठ पढ़ाती है। जिस भी घर में भाइयों की आपस में नहीं पटती हो उन्हें रामचरित मानस की 11 चौपाइयों का पाठ करना चाहिए। इससे भाई-भाई के बीच मधुरता बढ़ेगी। कथावाचक ने कहा कि जिसके जीवन में राम है उसके जीवन में आनंद है और जिसके जीवन से राम चले जाएं उसका जीवन खाली हो जाता है। भगवान और महापुरुषों को जाति के आधार पर नहीं देखना चाहिए। महापुरुष राष्ट्र और समाज के धरोहर हैं। उनकी जाति का अपने स्वार्थ की राजनीति व लाभ उठाना पाप के समान है। महापुरुष देश और समाज के हैं, उनका जीवन सभी के लिए कल्याणकारी है। भव सागर से पार उतरने के लिए श्रीराम कथा सुन्दर नौका है, जीव राम कथा रूपी नौका पर भाव के साथ बैठ जाये तो सहज मे भव से पार उतर सकता है। सनातन जीवन को जीने की पद्धती है। सनातन वह वट वृक्ष है, जिसकी छाया में धर्म का विराट स्वरूप देखने को मिलता हैं। मंदिर में हमेशा भगवान से मांगने जाते हो। कभी मिलने भी जाया करों। भगवान राम का भावपूर्वक स्मरण करने से जीव के दुख दूर हो जाते हैं। कथावाचक ने श्रद्घालुओं को विश्वामित्र दशरथ जी संवाद, और जनकपुर पुष्प वाटिका के भ्रमण की कथा को श्रवण कराया, जिसे सुनकर लोग मंत्रमुग्ध हो गए। उन्होंने कहा कि दशरथ ज्ञान तथा सीता भक्ति है, जहां भक्ति होती है वहीं भगवान निवास करते हैं। कथा का शुभारंभ फाजिलनगर विधायक सुरेन्द्र सिंह कुशवाहा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष बैरिस्टर जायसवाल, ब्लाक प्रमुख फाजिलनगर राजेश जायसवाल, पूर्व ग्राम प्रधान विनय तिवारी, भाजपा मंडल अध्यक्ष श्रीनिवास राय, भाजपा नेता अरुण मिश्र ने फीता काटकर किया। संचालन नन्दलाल गुप्त विद्रोही व मीरहसन अंसारी ने किया। इस दौरान ग्राम प्रधान श्रीराम पासवान, अवधेश सिंह, विनोद सिंह, विजय प्रताप सिंह, शिवजी कुशवाहा, राजेश सिंह, अशोक सिंह, मनोज सिंह, मार्कण्डेय शुक्ला, मदन प्रसाद आदि मौजूद रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel