एक तरफा प्यार की कीमत मिली जेल ।

एक तरफा प्यार की कीमत मिली जेल । ए• के• फारूखी ( रिपोर्टर) ज्ञानपुर, भदोही । सच कहा गया है प्यार में लोग सब कुछ भूल जाते हैं। यदि एक तरफा प्यार हो तो परिणाम निश्चित ही भुगतना पड़ता है। कुछ ऐसा ही हुआ क्षेत्र के एक गांव में। जहां लड़की के इंकार के बाद

एक तरफा प्यार की कीमत मिली जेल ।

ए• के• फारूखी ( रिपोर्टर)

ज्ञानपुर, भदोही ।

सच कहा गया है प्यार में लोग सब कुछ भूल जाते हैं। यदि एक तरफा प्यार हो तो परिणाम निश्चित ही भुगतना पड़ता है। कुछ ऐसा ही हुआ क्षेत्र के एक गांव में। जहां लड़की के इंकार के बाद दोनों पक्ष की कोतवाली में पंचायत हुई। बात न बनने के बाद सिरफिरे प्रेमी को एकतरफा प्यार करने की कीमत जेल की हवा मिली। वहीं इसके बाद भी प्रेमी शादी करने पर अड़ा रहा।

मिली जानकारी के मुताबिक कोतवाली क्षेत्र ज्ञानपुर के लखनो गांव के निवासी अनिल पाठक का पुत्र रोहित पाठक पड़ोस के गांव सरपतहां निवासीनी  एक लड़की से प्यार कर बैठा। लड़की विभूति नारायण राजकीय इन्टर कालेज की छात्रा है ,और लड़की की उम्र मार्कशीट के अनुसार 16 वर्ष है। इधर लड़की ने उक्त यु्वक के द्वारा छेड़छाड़ की बातें अपने दादा से बता दी ।

जिसकी जानकारी होने पर युवती  परिजन भी उक्त युवक उससे मिलकर शादी करने का प्रस्ताव रखता रहा।जिसका लड़की के परिवार के लोग विरोध करते रहे। परेशान होकर परिजन लड़की को अलग लेकर रहने या उसके पिता के पास कोलकाता भेजने का निर्णय लीये।   हद की सीमा उस समय पार कर गई, जब बीते दिनों उसनें स्कूल से वापस घर जा रही युवती का दिनदहाड़े गोयल गली में सरेराह हाथ पकड़ लिया।

लड़की की शिकायत पर लड़की के परिजन युवक के घर पहुंचे तो युवक के परिजनों ने भगा दिया। इसके बावजूद युवक उक्त नाबालिग छात्रा को राजी करने के लिए शादी का बार-बार प्रस्ताव रखता। इसके बाद परिजन लड़की को लेकर कोतवाली पहुंचे। कोतवाल के.के. सिंह ने दोनों पक्षों को बुलाया।

लंबी पंचायत चली, किंतु बात न बनी। अंतत: लड़की के पिता की तहरीर पर पुलिस ने सिरफिरे प्रेमी के खिलाफ मामला पंजीकृत कर उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद भी प्रेमी अपनी बात पर अड़ा रहा।अंतत:पुलिस ने प्रेमी के खिलाफ धारा 364क,504,606 व7/8 पास्को एक्ट का मुकदमा पंजीकृत कर सिरफिरे प्रेमी को जेल भेज दिया है।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel