धूमधाम से मनाया गया दयानंद सरस्वती की जयंती

धूमधाम से मनाया गया दयानंद सरस्वती की जयंती

मधेपुरा: सावित्री नंदा पब्लिक स्कूल में स्वामी दयानंद सरस्वती कि जयंती पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया।जिसमें विद्यालय के सभी छात्रगण तथा शिक्षकों ने भाग लिया। कार्यक्रम में सभी छात्रों ने स्वामी दयानंद सरस्वती के जीवन चरित्र पर विशेष बातें कि व स्वामी जी के विचारों को छात्रों एवं शिक्षकों ने विशेष बल देते हुए

 मधेपुरा: सावित्री नंदा पब्लिक स्कूल में स्वामी दयानंद सरस्वती कि जयंती पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया।जिसमें विद्यालय के सभी छात्रगण तथा शिक्षकों ने भाग लिया। कार्यक्रम में सभी छात्रों ने स्वामी दयानंद सरस्वती के जीवन चरित्र पर विशेष बातें कि व स्वामी जी के विचारों को छात्रों एवं शिक्षकों ने विशेष बल देते हुए कहा कि वे हमारे समाज के लिए बहुत ही बड़े समाज सुधारक थे।

कार्यक्रम को संचालित कर रहे विद्यालय के प्राचार्य आमोद कुमार ने कहा 12 फरवरी 1824 को स्वामी दयानंद सरस्वती जी का जन्म हुआ जिनका बचपन का नाम मूलशंकर था। वे वेद के प्रचारक तथा महान ईश्वर भक्त थे। उन्होंने नारी शिक्षा पर विशेष जोर दिया तथा उन्होंने हमारे समाज के लिए बहुत सी कुरीतियों को मिटाने का कोशिश किया। उनका मानना था कि सभी व्यक्ति समान है, और हमें सबों के लिए वही व्यवहार रखना चाहिए जो किसी खास के लिए रखते है। साथ ही उन्होंने बहुत सारे आडंबर को भी खत्म करने का कोशिश किया।

विद्यालय की सह निदेशिका शोभा मैडम तथा ई नीरज ने कहा कि हमें स्वामी दयानंद सरस्वती के  विचारों को गंभीरता से समझना चाहिए क्योंकि वे समाज के सुधारक ही नहीं बल्कि एक महान चिंतक भी थे। हमें आज उनके विचारों को मान करके आगे बढ़ना चाहिए। मौके पर आंचल, काजल, दिलखुश, सत्यम, कनिका, स्वास्तिका, शिवानी, सुहानी, बबली, खुशी, विद्याश्री, नैंसी, सुजीत, रंजीत एवं सभी छात्र-छात्राओं के साथ शिक्षक राहुल सिंह, बिनोद, संजय, राजू शेट्टी, मोहम्मद अलिमुद्दीन, रतन के साथ अन्य लोग मौजूद थे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष