दो पक्षों में जमकर मारपीट, पीड़ित ने लगाया न्याय की गुहार

भीटी अम्बेडकरनगर। स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम भगवान पट्टी में जानवरों के लिए चरी काट कर घर ले जाते समय रास्ते से गुजर रहे राजेश चैबे के शरीर के छू जाने को लेकर दो पक्षों में जमकर ईट पत्थर से मारपीट हो गई। जिस में युवक की आंख की पुतली फट गई। पीड़ित अशोक कुमार

भीटी अम्बेडकरनगर। स्थानीय थाना क्षेत्र के ग्राम भगवान पट्टी में जानवरों के लिए चरी काट कर घर ले जाते समय रास्ते से गुजर रहे राजेश चैबे के शरीर के छू जाने को लेकर दो पक्षों में जमकर ईट पत्थर से मारपीट हो गई। जिस में युवक की आंख की पुतली फट गई। पीड़ित अशोक कुमार पुत्र स्वर्गीय राम आश्रय ने आरोप लगाते हुए थाने में तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार भगवान पट्टी निवासी अशोक कुमार बुधवार को लगभग दोपहर 12ः30 बजे जानवरों के लिए खेत में चरी काटकर घर ला रहे थे उसी रास्ते से गांव निवासी राजेश चैबे के शरीर में चरी छू जाने से पीड़ित को भद्दी-भद्दी गालियां देने लगे। विवाद धीरे-धीरे मारपीट में बदल गया मारपीट के दौरान विपक्षी ने ईट का टुकड़ा उठाकर पीड़ित के बाई आंख पर मार दिया। जिससे पीड़ित की आंख के ऊपर फट गया और वह घायल हो गया। पीड़ित के हल्ला गुहार करने पर ग्रामीणों को इकट्ठा होते देख विपक्षी जान से मारने की धमकी देते हुए भाग निकला। पीड़ित ने इसकी सूचना डायल 112 पर दिया। सूचना पर पहुंचे 112 के पुलिसकर्मियों ने पीड़ित को थाने आने की बात कही। पीड़ित थाने पहुंचकर नामजद तहरीर देते हुए न्याय की गुहार लगाई है। वहीं थाना अध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर मिली है जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

राज्य

बगीचे में लटकता मिला युवक का शव, पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम को भेजा
प्रतिबंधित थर्माकोल प्लेट से भारी पिकअप प्रवर्तन दल ने पकड़ा
गोमती नदी में नहाते वक्त दो किशोर डूबे, हुई मौत पुलिस ने शव को बरामद कर परिजनों को सौंपा 
राज्य में पड़ रहे भीषण गर्मी को देखते हुए झारखंड में 15 जून तक सभी स्कूल रहेंगे बंद, आदेश जारी
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन  ने राज्य में विधि- व्यवस्था  और अपराध -उग्रवाद नियंत्रण को लेकर वरीय  पदाधिकारियों की उपस्थिति में जिलों के उपायुक्त एवं वरीय पुलिस अधीक्षक/ पुलिस अधीक्षक के साथ की उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक, दिए कई अहम निर्देश

साहित्य ज्योतिष

संजीव-नी।
संजीव-नीl
संजीव-नी।
संजीव-नी।
संजीवनी।