चीन जाएगी WHO की टीम, पता लगाएगी कि ये कोरोना वायरस आया कहां से

इसमें ये पता लगाना भी शामिल है कि वो आया कहां से. हम अगले हफ़्ते एक टीम को इसके लिए चीन भेज रहे हैं और हमें उम्मीद है कि इससे वायरस की उत्पत्ति के बारे में समझने में मदद मिलेगी.' हालांकि उन्होंने ये साफ़ नहीं किया कि टीम में कौन-कौन होगा, ना ही उन्होंने ये बताया कि विशेष रूप से उनका मक़सद क्या होगा. डब्ल्यूएचओ एक टीम को अगले हफ़्ते चीन भेज रहा है

स्वतंत्र प्रभात वाराणसी

मनीष पांडेय

न्यूयॉर्क. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि वो जल्द ही एक टीम चीन (China) भेज रहा है जो कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के स्त्रोत का पता लगाने का काम करेगी. WHO के मुताबिक अब ये जानना बेहद ज़रूरी हो गया है कि कोरोना वायरस (Covid-19) आया कहां से है. WHO ने साथ ही चेतावनी जारी कर कहा है कि अभी संक्रमण का इससे भी बुरा दौर आना बाकी है. WHO ने कहा कि अभी भी दुनिया के बड़े देश संक्रमण पर राजनीति कर रहे हैं जिससे इसके परिणाम और बुरे होने वाले हैं.
विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडहनॉम गिब्रयेसॉस ने एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, ‘जब हमें वायरस के बारे में सब कुछ पता होगा तो हम उससे बेहतर तरीक़े से लड़ सकेंगे. इसमें ये पता लगाना भी शामिल है कि वो आया कहां से. हम अगले हफ़्ते एक टीम को इसके लिए चीन भेज रहे हैं और हमें उम्मीद है कि इससे वायरस की उत्पत्ति के बारे में समझने में मदद मिलेगी.’ हालांकि उन्होंने ये साफ़ नहीं किया कि टीम में कौन-कौन होगा, ना ही उन्होंने ये बताया कि विशेष रूप से उनका मक़सद क्या होगा. डब्ल्यूएचओ एक टीम को अगले हफ़्ते चीन भेज रहा है, जो ये पता लगाएगी कि वैश्विक महामारी फैलाने वाला वायरस आख़िर कहां से आया. WHO मई की शुरुआत से ही चीन को बार-बार कह रहा है कि वो उसके विशेषज्ञों को बुलाए, जो कोरोना वायरस के एनिमल सोर्स का पता लगाने में मदद करेंगे. वैज्ञानिकों का मानना है कि वायरस जानवरों से इंसान में आया, संभवत: वुहान के एक बाज़ार से जहां असाधारण जानवरों के मांस की बिक्री होती है.
चीन में हालात ख़राब!
उधर चीन में कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने जिनपिंग सरकार की नींद उड़ा रखी है. इस बार बीजिंग से 150 किमी दूर हुबेई प्रांत में वुहान जैसी सख्ती की गई है. चीनी मीडिया ने बताया है कि इस इलाके में लॉकडाउन जारी किया गया है जिससे करीब 5 लाख लोग प्रभावित होने वाले हैं. पिछले 24 घंटों में बीजिंग में कोरोना के 14 नए मरीज मिले हैं जबकि जून मध्य से एक फूड मार्केट के कारण मरीज बढ़कर 311 हो गए हैं. बीजिंग में स्कूलों को फिर से बंद कर दिया गया है और कई स्थानों पर लॉकडाउन है. बीजिंग से बाहर जाने वाले व्यक्ति को कोरोना निगेटिव रिपोर्ट देनी होगी.
मिली जानकारी के मुताबिक हुबेई में काफी सख्त लॉकडाउन लागू किया गया है. प्रशासन ने कहा है कि यहां घर से निकलने तक पर पाबंदी होगी और घर का सामान लाने के लिए दिन भर में सिर्फ एक शख्स, एक ही बार बाहर जा सकेगा. किसी भी बाहरी को किसी बिल्डिंग, किसी समुदाय और किसी गांव में जाने की अनुमति नहीं होगी. नए मामलों में से एक तिहाई मामलों को मार्केट से बीफ और मटन सेक्शन से जोड़कर देखा जा रहा है. वहां काम करने वाले लोगों को एक महीने के लिए क्वारैंटाइन किया जा रहा है. एनशिन काउंटी से शिफेंडी बाजार में ताजे पानी की मछलियां सप्लाई की जाती हैं

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel