मण्डलायुक्त ने अभियान की सफलता के लिये आशा और आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर जताया भरोसा

मण्डलायुक्त ने अभियान की सफलता के लिये आशा और आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर जताया भरोसा

सत्यवीर सिंह यादव अलीगढ़। मण्डलायुक्त जी.एस.प्रियदर्शी की अध्यक्षता में कमिश्नरी सभागार में संचारी रोग एवं दस्तक अभियान के सम्बन्ध में बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि अभियान का मकसद ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में समुचित साफ-सफाई होना एवं मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों पर रोकथाम लगाना है। उन्होंने यूनिसेफ के समन्वयक को निर्देश

सत्यवीर सिंह यादव


अलीगढ़।

मण्डलायुक्त जी.एस.प्रियदर्शी की अध्यक्षता में कमिश्नरी सभागार में संचारी रोग एवं दस्तक अभियान के सम्बन्ध में बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि अभियान का मकसद ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में समुचित साफ-सफाई होना एवं मच्छरों से फैलने वाली बीमारियों पर रोकथाम लगाना है।

उन्होंने यूनिसेफ के समन्वयक को निर्देश दिये कि वह शासकीय टीम का सदस्य न बनते हुए क्षेत्र में प्राप्त कमियों को वास्तविक रूप से प्रदर्शित करें। उन्होंने कहा कि यदि पंचायतीराज, नगर निकाय एवं स्वास्थ्य विभाग मिलकर टीम भावना के साथ करेंगे तो इस अभियान में हम समय से पहले ही सफलता प्राप्त कर लेंगे।


मण्डलायुक्त जी.एस.प्रियदर्शी ने कहा कि संचारी रोग नियंत्रण प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में सम्मिलित है। जुलाई मासान्त तक आयोजित की जाने वाली संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफल बनाने के लिये सभी सम्बन्धित अधिकारियों को व्यापक स्तर पर धरातल पर काम करना होगा, तभी संचारी रोग अभियान की सफलता सुनिश्चित हो सकेगी।

मण्डलायुक्त ने अन्तर्विभागीय समन्वय समिति की बैठक करते हुए कहा कि कोरोना संकटकाल में इस अभियान को और अधिक सफल बनाने की आवश्यकता है। बैठक में संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा द्वारा प्रतिभाग न किये जाने पर जबावतलब करने के निर्देश दिये गये। पंचायतीराज एवं नगर निकायों को निर्देशित किया गया कि वह जलभराव की समस्या को दूर करने एवं क्षेत्र में साफ-सफाई सुनिश्चित करने के लिये अन्य विभागों से समन्वय स्थापित करते हुए माइक्रो प्लान तैयार कर कन्ट्रोल रूम के माध्यम से सम्बन्धित ग्रामवासियों को भी अवगत कराया जाए,

जिससे उचित सफाई कार्य, फाॅगिंग, एण्टी लार्वा एक्टिविटी न होने की दशा में वह शिकायत दर्ज करा सकें। उन्होंने प्रचार-प्रसार के लिये डिजिटल प्लेटफाॅर्म का भरपूर उपयोग करने एवं कूड़ा निस्तारण की स्थायी कार्ययोजना बनाये जाने के निर्देश दिये। आबादी के मध्य ऐसी कोई एक्टिविटी न होने दी जाए जिससे मच्छरों को पनपने का माहौल मिले। इस सम्बन्ध में जन-जागरूकता अभियान चलाया जाए।


मण्डलायुक्त को बताया गया कि कोविड संकटकाल में आशाओं एवं आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा घर-घर जाकर दस्तक अभियान एवं कोरोना से सम्बन्धित सत्यापन कार्य किया जा रहा है, जिस पर उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देशित किया कि वह स्वास्थ्य विभाग से रियूजेबिल मास्क व सेनेटाइजर प्राप्त कर उपलब्ध कराएं ताकि वह अपने को सुरक्षित रख सकें।

उन्होंने आशा और आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर भरोसा जताते हुए कहा कि यदि हमारे यह दो कार्मिक पूर्ण मनोयोग से कार्य करते हैं तो हमेशा की भांति हम इस अभियान में भी उत्कृष्ट कार्य करते हुए प्रदेश में अच्छी स्थिति में हांेगे। एनसीसी एवं एनएसएस को निर्देशित किया गया कि वह अपने वालंटियर्स को अभियान से जोड़ते हुए अपेक्षित सहयोग करंे।


आयुक्त ने बैठक में पंचायतीराज, शिक्षा विभाग, नगर निकाय, स्वास्थ्य विभाग, बाल विकास एवं पुष्टहार, पशुपालन, सिंचाई, कृषि आदि विभागों के लिये निर्धारित उत्तरदायित्वों और उनके द्वारा उनसे सम्बन्धित कार्यक्रम के क्रियान्वयन की समीक्षा करते हुए जलाशयों और नाले-नालियों की नियमित सफाई, फाॅंिगंग व्यवस्था, एण्टी लार्वा एक्टिविटी, कूड़ा प्रबन्धन और रूके हुए पानी में मच्छरों से बचाव के लिये गड्ढ़ों को भरवाये जाने और छिड़काव आदि की समीक्षा की।

उन्होंने ग्रामस्तरीय समितियों की बैठकें प्रत्येक माह की 15 तारीख तक प्रत्येक दशा में आहुत करने के भी निर्देश दिये।

बैठक में अपर निदेशक स्वास्थ्य, उप निदेशक पंचायत, अपर निदेशक बेसिक शिक्षा, उप निदेशक समाज कल्याण, जिला मलेरिया अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी, एनसीसी कमाण्डेंट एवं नोडल अधिकारी राष्ट्रीय सेवा योजना, यूनिसेफ, एसएमनेट के पदाधिकारी सहित अन्य जनपदों से भी अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel