आखिर क्यों, JNU प्रशासन को पुलिस बुलाने में हुयी देरी, जानिए

आखिर क्यों, JNU प्रशासन को पुलिस बुलाने में हुयी देरी, जानिए

स्वतंत्र प्रभात – बाईट रविवार को दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में बहुत ज्यासा बवाल हुआ. हुआ ये की हॉस्टल में घुसकर कुछ नकाब पोसो के द्वारा तोड़फोड़ की गई. इसके अलावा छात्राओं पर लाठी-डंडों से हमला किया गया. इस हंगामे के बाद लेफ्ट संगठनों और एबीवीपी की तरफ से एक-दूसरे पर जानकर

स्वतंत्र प्रभात –

बाईट रविवार को दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) परिसर में बहुत ज्यासा बवाल हुआ. हुआ ये की हॉस्टल में घुसकर कुछ नकाब पोसो के द्वारा तोड़फोड़ की गई. इसके अलावा छात्राओं पर लाठी-डंडों से हमला किया गया. इस हंगामे के बाद लेफ्ट संगठनों और एबीवीपी की तरफ से एक-दूसरे पर जानकर आरोप प्रत्यारोप हुए हैं. लेकिन कैमरे में कैद हुए नकाबपोश हमलावरों ने सबको हैरान कर दिया है. पुलिस की शुरुआती जांच में भी ऐसे ‘बाहरी’ नकाबपोशों की गुंडागर्दी की बात सामने आई है.

सूत्रों ने बताया कि जेएनयू परिसर में हिंसक झड़प की शुरुआत रविवार (5 दिसंबर) दोपहर बाद शुरू हुई. यह नोक-झोंक लेफ्ट और राइट विंग संगठन के छात्रों के बीच हुई. पुलिस की प्राथमिक जांच में यह बात सामने आई है कि JNU कैंपस में शाम 5 बजे के बाद स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई जब ‘बाहरी’ लोग कैंपस में घुस आए और छात्रों व टीचरों पर हमला किया.

पुलिस की पड़ताल में भी यह भी जानकारी आई है कि कुछ महिलाओं ने चेहरे ढके हुए थे और उनके हाथों में लाठियां थीं. इतना ही नहीं ये लोग छात्रों को धमकियां दे रहे थे. पुलिस सूत्रों ने बताया कि छात्रों की तरफ से शिकायत की गई है कि बाहरी लोगों ने यूनिवर्सिटी के पिछले गेट से एंट्री की, जिसकी जांच की जा रही है. पुलिस हमलावरों की पहचान के लिए CCTV फुटेज की जांच कर रही है.

दंगल के बाद बुलाई गई पुलिस

इसके अलावा पुलिस ने यह भी बताया कि जेएनयू प्रशासन की तरफ से पुलिस से सुरक्षा की मांग की गई थी. हैरान करने वाली बात ये है कि जब पुलिस की मदद मांगी गई तब तक जेएनयू में तांडव हो चुका था. बताया जा रहा है कि शाम 6.30 बजे पहली बार पुलिस फोर्स की मांग की गई, जबकि झड़प शाम 5 बजे ही शुरू हो गई थी.

राजधानी दिल्ली में JNU कैंपस यानी जवाहर लाल यूनिवर्सिटी से तस्वीरें कुछ ऐसी आई कि हर कोई हैरान रह गया. जेएनयू के अंदर हॉस्टल में तोड़फोड़ की गई, छात्रओं पर लाठी डंडों से हमला किया गया. बताया जा रहा है कि इस हमले को बाहर से आए लोगों ने अंजाम दिया, जिन्होंने नकाब पहने हुए थे. इस हमले में कई छात्र व टीचर घायल हुए हैं, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है. फिलहाल, एबीवीपी और लेफ्ट के छात्र संघ के बीच हिंसा के आरोप-प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं.

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel