हाइटेंशन लाइन से निकली चिंगारी ने मचाया तांड़व

गेहूं के खेत में लगी आग से डेढ़ बीघे गेहूं की फसल जलकर राख

हाइटेंशन लाइन से निकली चिंगारी ने मचाया तांड़व

नींबू की बाग को भी जलाकर किया खाक

ग्रामीणों ने घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू
 
लालगंज (रायबरेली) सरेनी।बढ़ती गर्मी के साथ-साथ आगजनी की घटनाओं में इजाफा होता दिख रहा है।एक ऐसा ही मामला प्रकाश में आया है जहां हाइटेंशन लाइन से निकली चिंगारी ने तांड़व मचा दिया और देखते ही देखते डेढ़ बीघे गेहूं की फसल समेत नींबू की बाग को जलाकर राख कर दिया।वहीं ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह आग बुझाने में सफल रहे।गनीमत रही कि इस बाबत हवा शांत रही अन्यथा आग और विकराल रुप धारण कर किसानों को और अधिक नुकसान पहुंचा सकती थी।
 
जानकारी के मुताबिक सोमवार की सुबह हाईटेंशन लाइन से निकली चिंगारी से दूलापुर गांव निवासी किसान प्रमोद त्रिवेदी पुत्र धुन्नी त्रिवेदी के गेहूं के खेत में आग लग गई और देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और लगभग डेढ़ बीघे गेहूं की फसल को जलाकर राख कर दिया।वहीं आग की चिंगारी पडोसी किसान बच्चा सिंह पुत्र राजेंद्र सिंह के खेत में जा पहुंची और लगभग हर डेढ़ बिस्वा गेहूं की फसल समेत नींबू की बाग को जलाकर राख कर दिया।
 
वहीं आग की ऊंची-ऊंची लपटों को देखकर आसपास खेतों में मौजूद किसान व ग्रामीण मौके की ओर भागे और किसी तरह पीट-पीटकर व पानी की बौछारों से घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया।लेकिन तब तक आग ने किसान प्रमोद त्रिवेदी की डेढ़ बीघा व बच्चा सिंह की डेढ़ बिस्वा गेहूं की फसल व नींबू की बाग को जलाकर राख कर दिया था।बताया जाता है कि आगजनी से सैकड़ों बीघे गेहूं की फसल नष्ट हो सकती थी,लेकिन ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद समय रहते आग पर काबू पा लिया और सैकड़ों बीघे गेहूं की फसल को नष्ट होने से बचा लिया।वहीं खबर लिखे जाने तक क्षेत्रीय लेखपाल मौके पर नहीं पहुंचे थे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष