भारतीय संविधान निर्माता डां भीम राव अम्बेडकर की मुबारकपुर पिकार में मनाई गई धूम धाम से जयंती

भारतीय संविधान निर्माता डां भीम राव अम्बेडकर की मुबारकपुर पिकार में मनाई गई धूम धाम से जयंती

 

संवाददाता आलापुर अम्बेडकर नगर 

अम्बेडकरनगर जनपद के विकास खण्ड़ जहांगीरगंज अन्तर्गत जब जब जुल्मी जुल्म करेगा सत्ता की गलीयारों से चप्पा चप्पा गूंज उठेगा जय भीम के नारों से ।गांव मुबारकपुर पिकार मे बड़े धूमधाम से बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की 14 अप्रैल 133 वी जयंती मनाई गई। आपको बता दें कि पूरे भारत देश में संविधान निर्माता बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी की जयंती धूमधाम से मनाई गई । वहीं कार्यक्रम गांव मुबारकपुर पिकार में उपस्थित लोगों ने बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर की चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर जयंती कार्यक्रम का शुभारंभ किया। बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती अवसर पर गांव के युवा व युवतियों ने डीजे के धुन पर थिरकते दिखे लोग एवं महिलाएं भी बाबा साहेब की जन्म दिन पर सोहर गीत भी गाये डीजे की धुन पर महिलाएं भी खूब जमकर डांस किए। वही यह कार्यक्रम गांव के ही कार्यकर्ताओं के द्वारा जयंती धूमधाम से मनाई गई। कार्यक्रम के अध्यक्ष शत्रुघन एवं उपाध्यक्ष संदीप भारती रहे।वही कार्यक्रम के अध्यक्ष  शत्रुघन ने बताया कि भीमराव रामजी अम्बेडकर, जिन्हें बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम से भी जाना जाता है इनका जन्म 14 अप्रैल, 1891वे को भारत के मध्य प्रदेश के महू में हुआ था। उनकी मृत्यु 6 दिसंबर 1956 को नई दिल्ली में हुई थी।

उनकी माता का नाम भीमाबाई और पिता का नाम रामजी सकपाल था। बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के जीवन पर प्रकाश डाला संपूर्ण समाज के दबे कुचले लोगों का ध्यान बाबा साहब के किए गए। दलितों के साथ किस स्तर का भेदभाव छुआछूत किया जाता था। जनहित कार्यों की तरफ आकृष्ट कराया। कहा कि बाबा साहब दलितों के पुरोधा तो थे ही साथ-साथ सर्व समाज के हितों की रक्षा शिक्षा सुरक्षा नारी सम्मान नारी सशक्तिकरण व समतामूलक समाज की स्थापना जाति विहीन समाज को अग्रसर कर देश व समाज की प्रगति में महत्वपूर्ण योगदान करने का कार्य किया है गया बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती पर देशभर के लोगों ने 14 अप्रैल के दिन बाबासाहेब डॉक्टर अंबेडकर के चित्र पर पुष्प अर्पित कर लोगों ने किया याद । इस मौके पर कार्यक्रम के व्यवस्थापक श्यामनारायन ,गोलू कन्हैयालाल वीरबहादुर पंकज कुमार पत्रकार  अजय कुमार अवधेश कुमार  दीपक उर्फ घनटी कौशल कुमार अनिल कुमार प्रशांत कुमार अंकित सुरजीत कुमार मिथुन कुमार मीर्थराज किर्तराज विनोद कुमार सुनील कुमार, विनोद गोविंद मुकेश अनिल अंकित चंदन कुमार जितेंद्र कुमार भास्कर सुधाकर सेम्पू डेम्पो मोन्टी मन्कू बंटी सुनील भरत  सभाजीत मास्टर सहित गांव की महिलाएं आदि लोग मौजूद रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष