साहित्य और काव्य की नई प्रतिभा ऋचा त्रिपाठी।

साहित्य और काव्य की नई प्रतिभा ऋचा त्रिपाठी।

प्रयास से  फीलिंग्स के सम्पादन में भी अपनी अहम भूमिका निभाई है।


स्वतंत्र प्रभात

 प्रयागराज ब्यूरो


तीर्थराज प्रयागराज के बलुआघाट  की रहने वाली ऋचा त्रिपाठी ने अपने जिले का नाम रोशन किया है आध्यात्मिक और साहित्यिक माटी की नवअंकुरित  ऋचा त्रिपाठी ने अपने अथक प्रयास से  फीलिंग्स के सम्पादन में भी अपनी अहम भूमिका निभाई है।

पारिवारिक, सामाजिक और अपने कर्तव्य क्षेत्र की अनेकानेक व्यस्तताओं के बाद भी अपनी लेखन अभिरुचि के लिए समय निकाला और दो पुस्तकें  कवि और काव्य तथा  जज्बाती शायरों के जज्बात 

का ई-बुक के माध्यम से समाज को अपनी प्रतिभा से अवगत कराया।


नें अपने जैसे कुछ उदीयमान साहित्यकारों से मिलकर ड्रीम पब्लिशर कलकत्ता के रोहित आर्या से सम्पर्क कर अपने सृजन को पुस्तक के रूप मे प्रकाशित कराने  का शुभ संकल्प लिया और विगत दिनों उड़ान 2021के अन्तर्गत आयोजन में विमोचन कराया गया ।

जिससे ऋचा त्रिपाठी  के परिवार में काफी खुशी का माहौल है ऋचा के पिता अनिल कुमार त्रिपाठी योगाचार्य व माता गीता त्रिपाठी का कहना है कि हम लोगो के परिवार में इस समय काफी खुशी का माहौल है मेरी बेटी ने हम लोगो का नाम रोशन किया है जिससे हम लोग अपने को गौरावन्तित महसूस कर रहे है


 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel