किसान खाद पाने के लिए परेशान हाल में समितियों के लगा रहे है चक्कर। ​​​​​​​

किसान खाद पाने के लिए परेशान हाल में समितियों के लगा रहे है चक्कर। ​​​​​​​

कोतवाली पुलिस ने किसानों को समझा बुझा राजमार्ग से हटवाया। खाद न मिलने वाले किसानों ने 


स्वतंत्र प्रभात 
 


मौदहा हमीरपुर

क्षेत्र के सरकारी खाद केंद्र व समितियों में हजारों बोरी डीएपी खाद बंटने के बाद भी तमाम किसान खाद पाने के लिए परेशान हाल समितियों के चक्कर लगा रहे हैं। इस समस्या से परेशान किसानों ने शनिवार को राजमार्ग पर जाम लगा हंगामा कांटा हालांकि जाम लगने की सूचना मिलने पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने किसानों को समझा बुझा राजमार्ग से हटवाया। खाद न मिलने वाले किसानों ने 

बताया कि वह लोग कई बार खाद लेने के लिए समितियों में लाइन लगा चुके हैं लेकिन उन्हें खाद नहीं मिली अब सिर में बुवाई होने के बाद उन्हें खाद की अत्यंत आवश्यकता है। अवगत हो कि क्षेत्र में रवि की फसल की बुवाई शुरू होते ही खाद की समस्या किसानों के सामने मुंह बाये खड़ी हुई है हालांकि यहां कि क्रय विक्रय समिति व पीसीएफ केंद्र प्रभारियों द्वारा अभी तक हजारों बोरी डीएपी किसानों को वितरित की गई है, 

लेकिन अभी तक समितियों में आयी खाद किसानों के लिए ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रही है। नगर के क्रय विक्रय समिति वाह पीसीएस केंद्र समेत अन्य समितियों में पर्याप्त मात्रा में खाद की आपूर्ति ना होने से क्षेत्रीय किसानों के सामने खाद की  किल्लत उत्पन्न हो गई है। खाद न मिलने से परेशान किसानों ने शनिवार को राजमार्ग पर जाम लगा हंगामा काटना शुरू कर दिया जिसकी सूचना मिलते ही कोतवाली पुलिस ने 


मौके पर पहुंच आक्रोशित किसानों को समझा बुझा उन्हें किसी तरह राजमार्ग से हटने को राजी किया। इस दौरान राजमार्ग के दोनों ओर वाहनों की लंबी लाइनें लग गयीं। हालांकि आज पीसीएफ केंद्र में एक हजार बोरी डीएपी खाद किसानों को वितरित की गई।


 केंद्र प्रभारी ने बताया कि शनिवार को प्रत्येक किसान को पांच या किसी को दस बोरी खाद वितरित की गई है। इसी प्रकार शुक्रवार को क्रय विक्रय समिति में आयी छह सौ बोरी डीएपी खाद पुलिस की मौजूदगी में समिति के सचिव ने किसानों में लाईन लगवा कर  बंटवाई।


 हालांकि उसके बावजूद भी कई किसान खाद पाने से वंचित रह गये। ग्राम सिरौली के शिवकरण व राधेश्याम ने बताया कि वह सुबह से आकर यहां लाईन में लग गए थे लेकिन उनका नंबर आते-आते खाद वितरण करने वाली खिड़की बंद हो गई। उन्होंने बताया कि बुवाई का समय सिर पर आ गया है 

और उनको उनके पास खाद नहीं है जिससे वह समितियों के चक्कर लगा रहे हैं। इसी प्रकार रामनारायण, राकेश, शरीफ, वाजिद, फहीम उल्ला, मुन्नालाल व घसीटा समय अन्य किसानों ने समिति के प्रभारियों पर मुंह देखकर खाद बांटने का आरोप लगाया है। पीसीएफ के केंद्र प्रभारी सुरेंद्र कुशवाहा में जल्द ही केंद्र में खाद आने का आश्वासन किसानों को दिया है।
 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel