विद्युत सखी सक्रियता बढ़ाएं :जिलाधिकारी

विद्युत सखी सक्रियता बढ़ाएं :जिलाधिकारी

टाउनहॉल ऑडिटोरियम में 269 विद्युत सखी का हुआ प्रशिक्षण


स्वतंत्र प्रभात 
 

देवरिया,9अक्टूबर। विद्युत सखियां ग्रामीण अंचल में विद्युत बिल की वसूली में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली बिल वसूली से विद्युत विभाग की आर्थिक सेहत सुधरेगी । साथ ही महिलाओं को बड़ी संख्या में रोजगार भी मिलेगा, जिससे महिला सशक्तिकरण को भी बढ़ावा मिलता है। 

उक्त बातें जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने शनिवार को टाउनहॉल ऑडिटोरियम में उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तत्वावधान में आयोजित बिजली बिल कलेक्शन हेतु विद्युत सखियों के एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। जिलाधिकारी ने कहा कि यूपीपीसीएल और यूपीएसआरएलएम के मध्य एक समझौता हुआ है जिसके अनुसार स्वयं सहायता समूह से संबद्ध विद्युत सखियां ग्रामीण अंचलों में बिजली बिल का कलेक्शन करेंगी। ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली बिल का कलेक्शन शहर की तुलना में कठिन होता है।

 किंतु प्रशिक्षण के उपरांत विद्युत सखियां अपने कार्य को प्रभावी रूप से क्रियान्वित करने में सक्षम होंगी। विद्युत विभाग को विद्युत सखी के रूप में अतिरिक्त श्रमबल मिला है। विद्युत सखी एजेंट के रूप में जितनी सक्रियता से बिल का कलेक्शन करेंगी उससे विद्युत विभाग को फायदा मिलेगा ही, साथ ही उनकी आय में भी बढ़ोतरी होगी। विद्युत सखियां इस योजना को प्रभावी रूप से लागू करे ।

 उन्होंने कहा कि योजना से संबंधित प्रगति की समीक्षा वे स्वयं समय-समय पर करेंगे। इस अवसर पर डीसी मनरेगा विजय शंकर राय ने बताया कि आज के प्रशिक्षण कार्यक्रम में कुल 269 विद्युत सखियां शामिल हुई। उन्होंने कहा कि विद्युत सखियां प्रशिक्षण से मिले सबक का प्रयोग फील्ड में करें। 


बड़े बिलों का भुगतान करने पर उन्हें अधिक कमीशन मिलेगा और उनकी आय बढ़ेगी। इस अवसर पर अधीक्षण अभियंता जी.सी. यादव, जिला विकास अधिकारी श्रवण कुमार राय, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक संजय कुमार पांडेय सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel