ई-सचिवालय की शुरूआत करके सुशासन के संकल्प में एक और नया अध्याय जोड़ा : मुख्यमंत्री मनोहर लाल

ई-सचिवालय-की-शुरूआत-करके-सुशासन-के-संकल्प-में-एक -और -नया-अध्याय-जोड़ा -मुख्यमंत्री0-मनोहर-लाल।

आम आदमी घर बैठे अपनी शिकायत करवा सकता है दर्ज, डीसी व एसपी से शिकायत संबंधी कर सकता है बातचीत, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की प्रदेश में ई-सचिवालय की शरूआत, प्रदेश के सभी जिलों में आज से होगी ई-सचिवालय की शुरूआत।


करनाल -मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि ई-सचिवालय की शुरूआत करके आज सुशासन के संकल्प में प्रदेश में एक नया अध्याय जोड़ा है, प्रदेश के सभी केन्द्रीय व जिला सचिवालयों में आम आदमी अपनी शिकायतों को इस पोर्टल के माध्यम से अधिकारियों के सामने रख सकते हैं। अब प्रदेश का आम आदमी को अपनी शिकायतों के निराकरण के लिए अधिकारियों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे बल्कि वह पोर्टल के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज करवाकर अधिकारी से घर बैठे सीधी बात कर सकेंगे।


मुख्यमंत्री ने मंगलवार को चंडीगढ़ से वीडियो कांफ्रैंसिंग के माध्यम से ई सचिवालय की शुरूआत की। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के तहत आईटी सैक्टर को सरकार द्वारा काफी बढ़ावा दिया गया है। सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए आम आदमी को किसी प्रकार की दिक्कत न हो इसके लिए आईटी सैल ने काफी काम किया है। लोगों का समय बचे और उनकी समस्याओं का हल भी हो, किसी को कार्य के लिए सचिवालय न जाना पड़े इसके लिए ई सचिवालय की शुरूआत की है। हरियाणा देश का पहला राज्य है जहां पर आम आदमी की सुविधा के लिए ई सचिवालय की शुरूआत की गई है। उन्होंने इस कार्य के लिए आईटी सैल के अधिकारियों को भी बधाई दी।


मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने कहा कि ई सचिवालय की शुरूआत करके हरियाणा ने देश में एक अनोखी पहल की है। इससे संपूर्ण पारदर्शिता आएगी और लोगों को कोविड-19 के तहत अपनी शिकायत के निराकरण के लिए चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे बल्कि वह पोर्टल पर अपनी शिकायत दर्ज करके अधिकारी से बात कर सकता है। इसके लिए सभी संबंधित अधिकारियों को ट्रेनिंग भी दी गई है। उन्होंने कहा कि इस प्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं।


उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि ई सचिवालय की शुरूआत की गई है। इसके लिए कोई भी व्यक्ति अपनी शिकायत पोर्टल पर जाकर अपलोड कर सकता है। पहले चरण में डीसी और एसपी से संबंधित शिकायतों को इसमें शामिल किया गया है। शिकायतकर्ता को पहले अपनी पहचान के लिए आधार कार्ड या फैमिली पहचान पत्र अपलोड करना होगा और अपनी शिकायत का विवरण देना होगा, उसके बाद शिकायतकर्ता पर एसएमएस के माध्यम से सूचना आएगी जोकि संबंधित अधिकारी से मोबाईल पर ही अपनी बात कह सकता है। उपायुक्त व एसपी शिकायत के निराकरण के लिए अपने अधीनस्थ अधिकारी को लिखेगा,


 इसकी जानकारी शिकायतकर्ता को दी जाएगी। उन्होंने बताया कि इसके लिए कर्मचारियों को एनआईसी की ओर से प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। सरकार की इस पहल से आम आदमी को अधिकारियों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि पहले की तरह व्यक्ति अधिकारी से मिलकर भी अपनी शिकायत दे सकता है, इसके लिए किसी भी प्रकार की मनाही नहीं है। ई सचिवालय सरकार की ओर से एक सुविधा है कि शिकायतकर्ता का समय बचे और वह घर बैठे अपनी शिकायत दे सके।
इस मौके पर डीआईओ महीपाल सीकरी ने बताया कि ई सचिवालय प्रणाली जिले में ठीक प्रकार से काम कर सके इसके लिए आज से ही कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। यह कर्मचारी आम आदमी की शिकायत दर्ज करेंगे और अधिकारियों से पोर्टल के माध्यम से शिकायत के निराकरण के लिए शिकायतकर्ता से बातचीत भी करवाएंगे।