नशेड़ीयो जुआरियों के सरगना का मनोबल हुआ ऊंचा

मोहल्ले में ताल ठोक रहा है सरगना

हल्की धाराओं में प्राथमिकी हुई दर्ज

लखनऊ/ राजधानी

लखनऊ में नशेड़ी जुआरियों अपराधी किस्म के लोगों के खिलाफ लगातार लखनऊ पुलिस की मुहिम चल रही है इसके बावजूद भी समाज में अराजक तत्वों का बोलबाला बढ़ता ही जा रहा है या यूं कहें कि कम होने का नाम नहीं ले रहा है अगर लखनऊ पुलिस के पास शिकायत करो तो पुलिस तो अपनी ड्यूटी दिखाती है

लेकिन पीछे से असामाजिक तत्वों द्वारा बढ़-चढ़कर अंगूठा दिखाया जाता है इन असामाजिक तत्वों को यह भी फर्क नहीं पड़ता कि शिकायतकर्ता समाज का सम्मानित व्यक्ति है और यही नहीं बल्कि शिकायतकर्ता पर ही जानलेवा हमला कर दिया जाता है. जब ऐसा ही होता रहेगा तो समाज में हो रहे अपराध और समस्याओं के खिलाफ आवाज आखिर कौन उठाएगा ?

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ऐसा ही ताजा मामला राजधानी लखनऊ के विकास नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत सेक्टर एम् से आ रहा है. जहां स्वतंत्र प्रभात के संपादक जो पिछले कई साल से अपने मोहल्ले में होने वाले जुए और नशे के खिलाफ मुहिम छेड़ रखे हैं उसी क्रम में आज फिर जब उन्होंने अपने मोहल्ले में होने वाले जुए और नशा को देखकर विकास नगर थाने पर शिकायत की तो मौके पर पहुंची पुलिस जिसको देखकर सारे असामाजिक तत्व वहां से रफूचक्कर हो गए लेकिन तत्काल उनका सरगना जो उसी मोहल्ले में रहता है उसने पुलिस के जाते ही शिकायतकर्ता पर हमला कर दिए. दरअसल वहां होने वाला जुआ और नशा को वहीं पनाह देने वाले लोग मौजूद हैं जिसकी वजह से पुलिस की कार्रवाई भी छोटी दिखने लगती है. शिकायतकर्ता के घर के ठीक सामने एक छोटा सा पार्क है जहां आए दिन नशेड़ी जुआरियों का अड्डा दोबारा दिखने लगा है.

पुलिस की कार्रवाई

पीड़ित शिकायतकर्ता पर घर में घुसकर जिन असामाजिक तत्वों ने जानलेवा हमले की घिनौनी कोशिश की थी जब उसके खिलाफ पीड़ित शिकायतकर्ता ने थाने पर प्रार्थना पत्र दिया तो शायद उस प्रार्थना पत्र की गंभीरता को थाने पर मौजूद पुलिस वाले समझ नहीं पाए और विकास नगर थाना ने भी प्राथमिकी के तौर पर 504 – 506 का मामला दर्ज किया जो कि इस तरह के अपराध के लिए शायद कम है जिसकी वजह से शिकायतकर्ता को उसी के मोहल्ले में अपराधिक छवि वाले अंगूठा दिखा रहे है जैसे उसका शिकायतकर्ता ने क्या कर लिया ? खैर बात भी सही है अपराध के हिसाब से जब प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई तो कहीं ना कहीं अपराधिक तत्वों का बोलबाला उस इलाके में है इसका जिक्र अलीगंज के इलाके में आस-पड़ोस के लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया.

आखिर क्या है मामला:

सेक्टर एम् में स्थित पार्क के ठीक सामने स्वतंत्र प्रभात के संपादक राजीव शुक्ला अलीगंज का निवास स्थान है. जहां घर के सामने पार्क में 20 से 25 लड़के गैंग बनाकर नशा करते हैं और सुबह से शाम तक जुआ खेलते हैं इन अराजक लड़को से पूरा मोहल्ला पीड़ित है, जिसकी शिकायत राजीव शुक्ला द्वारा लगातार की गई और थाने द्वारा समय-समय पर उचित कार्यवाही भी की जाती रही। जिससे पूरे मोहल्ले में शांति धीरे- धीरे बन रही थी। लेकिन आज फिर जब वही लड़के पार्क में बैठकर गाली गलौज के साथ जुआ खेल रहे थे तो राजीव शुक्ला द्वारा फिर से प्रभारी निरीक्षक विकासनगर से फोन पर शिकायत की गई। जिस पर संज्ञान लेते हुए थानाध्यक्ष ने तत्परता दिखाए मौके पर पुलिस दल भेजा जिसको देखकर अराजक लड़के वहां से भाग खड़े हुए। लेकिन जब पुलिस वहां से चली गई तो इन जुवारियों का सरगना सानू जो वही शिकायतकर्ता के पड़ोस में रहता है कुछ अराजक तत्वोंं के साथ पहुंचकर

राजीव शुक्ला को गाली गलौज तथा हाथ पैर तोड़ने की धमकी देते हुए नीचे बुलाया जहां पीड़ित नीचे उतर कर पूछा कि आप ऐसा क्यों कर रहे हो तो अपराधी किस्म का सानू हमलावर हो गया राजीव शुक्ला ने उससे गाली गलौज करने का कारण पूछा ही था कि सानू और उसके पिता डी. पी.सिंह और उसकी घर की औरतें और चार- पांच लोग पीड़ित को पकड़ लिए और ललकारते हुए बोलने लगे कि आज इसको जान से मार दो जिससे दोबारा कोई भी इस मोहल्ले से पुलिस को शिकायत करने की हिम्मत ना करे। जब पीड़ित अपने घर में भागकर चला गया तो यह लोग घर के अंदर तक घुसकर आए और वहां भी पीड़ित के ऊपर हमला किए आसपास वालों के बीच बचाव की वजह से किसी तरीके से पीड़ित जान बचाकर अपने घर के अंदर कमरे में खुद को बंद कर लिया जिससे पीड़ित की जान बच सकी।

लोगों के बीच बचाव करने से यह अपराधिक किस्म के लोग घर से बाहर तो निकल गए लेकिन फिर घर के बाहर खड़े होकर काफी देर तक ये लोग अश्लील तरीके से घर की महिलाओं, बच्चों और पीड़ित को गाली गलौज करते रहे यह भी बोले कि यह घर से बाहर जैसे निकले इसको घेर कर मारो और कई अपराधियों के नाम भी गिनाने लगे कि हमारा ऐसे अपराधियों से संपर्क है जिनसे तुम्हारे पूरे परिवार को जान से मरवा दूंगा।

अगर अपनी और अपने परिवार के जान की सलामती चाहते हो तो पूरे परिवार के साथ घर खाली कर के कहीं और चले जाओ इस घटना से पीड़ित तथा पीड़ित का परिवार के आत्म सम्मान को गहरा सदमा पहुंचा है। आज एक बड़ी वारदात को अंजाम देने के मकसद से ये लोग आए थे, परिवार दहशत के माहौल में जीने को मजबूर है। अब देखनाा यह होगा कि इस पूरे मामल पर पुलिस कितनी गंभीरता के साथ कार्रवाई करती है ताकि इन अपराधियों के हौसले दोबारा समाज में इस तरह के हरकतों के लिए ना रह जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here