ढाबा स्वामी और माफियाओं की थी बरामद लकड़ी!

ढाबा-स्वामी-और-माफियाओं-की-थी-बरामद-लकड़ी!

   डीएफओ की फटकार के बाद सोमवार रात रेंजर ने बरामद की थी गन्ने के खेत से बेशकीमती लकड़ी

एक लकड़ी माफिया मामले को मैनेज कराने के लिए कर रहा रेंजर से डील
वन कर्मचारियों की मिलीभगत से खुटार में चल रहा है जंगलों में अवैध कटान और लकड़ी की तस्करी का धंधा
लकड़ी को गाड़ी में भरकर बाहर ले जाने की तैयारी में थे वन माफिया और ढाबा स्वामी

स्वतंत्र प्रभात

शाहजहांपुर। थाना खुटार  जिला वन विभाग अधिकारी की फटकार के बाद सोमवार की रात मैलानी रोड स्थित एक गन्ने के खेत से बरामद कोरो की बेशकीमती लकड़ी को एकत्र करने वाले वन माफियाओं और एक ढाबा स्वामी की पहचान वन कर्मचारियों ने कर ली है। लेकिन मामले को रफा-दफा करने के लिए ढाबा स्वामी रेंजर डीएस यादव के एक खासम खास वन माफिया के माध्यम से सौदेबाजी में जुट गया है। शायद यही वजह है कि वन क्षेत्राधिकारी अधिकारी डीएस यादव द्वारा अभी तक गन्ने के खेत में मिली कोरो की लकड़ी के मामले में कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

जबकि मंगलवार को रेंजर, एसडीओ और प्रभागीय वन अधिकारी ने जंगल से काटकर गन्ने के खेत में लाकर एकत्र की गई लकड़ी के मामले में मैलानी रोड स्थित ढाबा स्वामी, नरौठा गांव के कुछ लकड़ी माफियाओं के नाम शामिल होने की जानकारी मीडिया को दी थी, लेकिन इसके बाद भी अभी तक इन लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। चर्चा है कि पूरा मामला निपटाने के लिए वन क्षेत्राधिकारी की ओर से मोटी डिमांड की जा रही है और इसकी मध्यस्ता रेंजर के एक खास वन माफिया द्वारा की जा रही है। अगर अधिकारियों ने इसे गंभीरता से लेकर वन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई नहीं कराई, तो वन क्षेत्राधिकारी अधिकारी इस पूरे मामले को ले देकर रफा-दफा कर डालेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here