वायु की शुद्धता बनाये रखना चाहते हैं, तो चलानी होगी साईकिल-

वायु की शुद्धता बनाये रखना चाहते हैं, तो चलानी होगी साईकिल-

वायु-की-शुद्धता-बनाये-रखना-चाहते-हैं,-तो-चलानी-होगी-साईकिल-



रूदौली अयोध्या-

देश मे फैली कोरोना महामारी के कारण प्रधानमंत्री द्वारा 25 मार्च से किये गए लॉकडाउन में कोरोना से  लड़ाई के दौरान देशवासियों ने भले ही बहोत सारी दुश्वारियों का सामना किया हो, शादियां टल गईं हो,

बहोत सारे लोग अपनो की खुशी और गम में नही शामिल हो सके, प्रवासी मज़दूरों समेत हम सबको तमाम मुसीबतें झेलनी पड़ी है लेकिन इसका यदि आप दूसरा पहलू देखेंगे तो पता चलेगा कि इन दुश्वारियों के बदले में कुछ अच्छा भी हुआ! सड़क दुर्घटना से होने वाली मौतों में काफी कमी दर्ज की हुई है,

जल, वायु एवं ध्वनि प्रदूषण में अच्छी खासी कमी हुई है, अगर हम सिर्फ वायु प्रदूषण की बात करें तो आपको जानकर हैरानी होगी कि पिछले दो दशकों में वायु प्रदूषण के स्तर में भारी गिरावट दर्ज की गई है, आँकड़ो के मुताबिक देश मे लाखों लोगों की मौतें वायु प्रदूषण के कारण होती हैं, आपको जानकर हैरानी होगी

कि क़रीब चालीस फीसदी वायु प्रदूषण का कारण मोटर गाड़ियों से निकलने वाला दूषित धुँवा होता है, पिछले बीस वर्षों के पश्चात देश की हवा फिर से शुद्ध हुई है, तो अब हम सबकी ये ज़िम्मेदारी है कि इस हवा को पुनः दूषित न होने दिया जाए,अब चिंता ये है कि अर्थव्यवस्था एवं गरीब मध्यम वर्गीय परिवारों को ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन में सरकार द्वारा धीरे-धीरे छूट प्रदान की जा रही है

और आज नही तो कल लॉकडाउन तो खत्म होना ही है, लेकिन सवाल ये है वायु प्रदूषण फिर न बढ़े इसके लिए क्या किया जाए? सरकार को बढ़ते प्रदूषण को रोकने लिए क्या उपाय करने है ये सरकार का काम है, हम सबको आत्मनिर्भर होकर मोटर गाड़ियों के धुएं से 40 फीसदी फैलने वाले वायु प्रदूषण को रोकना होगा, इसके लिए सबसे आसान तरीका है, मोटर गाड़ियों का अनावश्यक प्रयोग न करके साइकिल का इस्तेमाल किया जाए

, साईकिल पर्यावरण के लिए और हमारे स्वास्थ्य के लिए कितनी लाभदायक है आप इस बात से अंदाज़ा लगा सकते है कि दुनियाँ के कई देशों ने साईकिल को कल्चर फैक्टर बनाया हुआ है, ऐसे कई देश है जहाँ साईकिल अपने महत्व के कारण हर घर का हिस्सा बनी हुई है, हमारे यहाँ भारत मे भी आज़ादी के बाद से अब तक साईकिल की लोकप्रियता कम नही हुई है।

3 जून को विश्व साईकिल दिवस के मौके पर दुनियाभर में साईकिल चलाने के लिए लोगों को जागरूकता अभियान का आयोजन कर जागरूक किया जाता है!

कई माह पूर्व से लोगों को साईकिल चलाने के प्रति सजग कर रहे अयोध्या ज़िले के सामाजिक कार्यकर्ता एखलाक राजा का कहना है कि इतने लंबे समय के बाद हम सबको साफ सुथरी हवा में साँस लेने का अवसर मिला है,

इसे पुनः दूषित न होने दें, सभी लोगों की ज़िम्मेदारी है कि वातावरण को बेहतर बनाने में अपना योगदान दे एवं शहर में रोज़मर्रा के छोटे-मोटे काम आदि निपटाने के लिए अपने जीवन मे साईकिल का दैनिक उपयोग करें, अनावश्यक मोटर वाहनों का प्रयोग न करें।

एखलाक राजा ने बताया कि मार्केट में स्टाइलिश साइकिलें आने के बाद अब हमारे यहाँ रुदौली में साईकिल के प्रति युवाओं का क्रेज़ धीरे-धीरे बढ़ रहा है!

फी सबीलिल्लाह ग्रुप की और से एक गरीब मजदूर को साईकल वितरित की गयी
फी सबीलिल्लाह ग्रुप की लोकप्रियता दिन पर दिन बढ़ती जा रही है और ग्रुप के सभी मेम्बर दिन रात एक करके मेहनत कर रहे है। पिछले 15 दिनो से लगातार फी सबीलिल्लाह ग्रूप गरीब मजदूर के लिए नेशनल हाईवे पर लंच पैकट ,खीरा, केला, बिस्किट, लय्या चना व आईस्क्रीम वितरित करता आ रहा है।बरगदी निवासी मो• कैफ ने बताया  कि ये ग्रुप सिर्फ गरीब मजदूर को खाना ही नही खिलाता है बल्कि आस पास कोई गाँव में गरीब भूखा ना सोये और कुछ गरीबो को पैसे की मदद अलग से भी करता है।आज ग्रुप में एक गाँव से एक दोस्त ने फोन करके एक गरीब और परेशान व्यक्ति के बारे में बताया की वो गरीब को अगर कोई सामान बेचना होता है तो सिर्फ गाँव में ही बेच पाता हैं क्योंकि उसके पास इतना पैसा नही है की एक साईकल खरीद ले और गाँव से बाहर भी सामान बेच ले।इसकी जानकारी जैसे ही फी सबीलिल्लाह ग्रुप की टीम को मिली तो वो तत्काल नई साईकल खरीद कर उस गरीब तक पहुँचाई गयी।साईकल मिलते ही उस गरीब का चेहरा खुशी से खिल उठे और उसने फी सबीलिल्लाह टीम को बधाई दी। इस मौके पर मो कैफ,मो ईबाद,मो नजीब,मो आमिर,शानू सेठ, जियाऊर रहमान, इजिंनीयर मुश्ताक, मुन्नवर अली, मो इमाद,मो नबील,अहमद भाई , शादान रसूलपुर वा तमाम ग्रुप मिम्बर मौजूद रहे।