किसान संगठन ने 1 दिसंबर से चल रहे आमरण अनशन को समाप्त कराए जाने की मांग की

किसान संगठन ने 1 दिसंबर से चल रहे आमरण अनशन को समाप्त कराए जाने की मांग की

जिलाधिकारी को लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र सौंप ग्राम पिपरा माफ में 1 दिसंबर से चल रहे


महोबा ।  भारतीय किसान यूनियन भानु के कार्यकर्ताओं द्वारा जिलाधिकारी को लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र सौंप ग्राम पिपरा माफ में 1 दिसंबर से चल रहे आमरण अनशन को समाप्त कराए जाने की मांग की है।

जानकारी के मुताबिक जनपद ब्लाक कबरई के ग्राम पिपरामाफ निवासी भारतीय किसान यूनियन (भानु) के जिला प्रमुख महामंत्री युवा जनक सिंह परिहार द्वारा 6 सूत्रीय मांगों को लेकर विगत 7 दिनों 1 दिसंबर से बस स्टैंड पिपरामाफ में किसानों के साथ आमरण अनशन कर रहें हैं। जहां उनकी मांगों को पूरा किए जाने की बात कही जा रही है। मांगो में राजकीय जूनियर हाई स्कूल पिपरामाफ को उच्चीकृत करके राजकीय इंटर कॉलेज किया जाए, राजकीय जूनियर हाई स्कूल पिपरामाफ की भूमि पर कर लिए गए अवैध अतिक्रमण को हटवा कर अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाए

तथा छात्र छात्रों के निमित्त की गई सामान की खरीदारी में हुए भ्रष्टाचार की जांच कराकर दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाए, लुहेड़ी बस स्टैंड पर पुलिस चौकी खोली जाए, सरकारी योजनाओं जैसे स्टेडियम व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण कराया जाए, चकबंदी प्रक्रिया शीघ्र पूर्ण कराई जाए एवं तत्कालिक ग्राम विकास अधिकारी कामता प्रसाद वर्मा द्वारा किए गए भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय जांच कराकर दोषी पाए जाने पर कानूनी कार्यवाही की जाए।

 जहां विषम परिस्थितियों एवं अनशन कार्यों की उचित मांगों को सहानुभूति पूर्वक विचार कर यथाशीघ्र समाधान कराने एवं अनशन कारी के दिन प्रतिदिन बिगड़ती हालत को दृष्टिगत रखते हुए यथाशीघ्र अनशन समाप्त कराने की मांग की गई। यदि शीघ्र समाधान नहीं किया गया तो अनशन कारी की बिगड़ती हालत तथा कृषकों के बढ़ते आक्रोश के दृष्टिगत भारतीय किसान यूनियन (भानु) को विवश होकर सड़क पर उतरकर आंदोलन करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel