जनकवि निराला को निर्वाण दिवस पर दी गई श्रद्धांजलि

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो उन्नाव। जनकवि पंडित सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का 60वां निर्वाण दिवस श्रद्धासुमन अर्पित कर मनाया गया। कार्यक्रमों में महाकवि निराला को आधुनिक हिंदी साहित्य में अपराजेय कवि बताया गया।निराला जी के पैतृक गांव गढ़ाकोला में निराला प्रेमीजनों ने पहुंचकर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए निराला डिग्री कॉलेज के प्राचार्य

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो उन्नाव। जनकवि पंडित सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का 60वां निर्वाण दिवस श्रद्धासुमन अर्पित कर मनाया गया। कार्यक्रमों में महाकवि निराला को आधुनिक हिंदी साहित्य में अपराजेय कवि बताया गया।निराला जी के पैतृक गांव गढ़ाकोला में निराला प्रेमीजनों ने पहुंचकर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए निराला डिग्री कॉलेज के प्राचार्य डॉ0 सुरेंद्र सिंह ने कहा कि निराला का साहित्य व उनकी जनश्रुतियाँ आज भी जीवित हैं। निराला विश्व पटल के उन महान कवियों में हैं जिनपर कई भाषाओं में शोध कार्य हुआ है।

आज की युवा पीढ़ी निराला से अन्याय और शोषण के विरुद्ध संघर्ष की प्रेरणा लेनी चाहिए। निराला स्मारक समिति के मंत्री रमेशचंद्र तिवारी ने कहा वह महामानव थे जिन्होंने समाज की कुरीतियों धार्मिक अंधविश्वास व सामाजिका आडंबर के विरुद्ध डटकर मुकाबला किया और एक संघर्षपूर्ण जीवन जीते हुए हिंदी साहित्य के लिए नए मार्ग को प्रशस्त किया। कार्यक्रम का आयोजन निराला बंसज राजकुमार त्रिपाठी ने किया। अन्य प्रमुख लोगों में डॉ0 मीनाक्षी सिंह, डॉ0 राधारानी गुप्ता, डॉ0 गंगाधर पटेल, प्रेमशंकर लोधी, शिवेंद्र प्रताप, रज्जन त्रिवेदी, महेश बाजपेई आदि मौजूद रहे।

महाप्राण निराला महाविद्यालय में भी उनकी आदमकद प्रतिमा पर छात्र-छात्राओं व स्टाफ ने माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इनमें सत्येंद्र पांडे, डॉ0 केपी यादव, शिवकांत शुक्ला, राकेश वर्मा, अनिल शुक्ला, सुशील पांडे, प्रमोद मिश्रा, सुरेंद्र सिंह मौजूद रहे। एमएम पब्लिक स्कूल में भी महाकवि के निर्वाण दिवस पर उनके चित्र पर पुष्पांजलि दी गई। मनोहरा गल्र्स कॉलेज की प्राचार्य डॉ0 कुसुमलता, एमएम पब्लिक स्कूल के प्रबंधक गौरव अवस्थी प्रधानाचार्य मीना तिवारी, सुनील अवस्थी, अजय पांडे मौजूद रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष