नहीं रहे गरीबों व दलितों की आवाज बुलंद करने वाले राजनेता-घनश्याम ।

नहीं रहे गरीबों व दलितों की आवाज बुलंद करने वाले राजनेता-घनश्याम । ए •के• फारूखी ( रिपोर्टर) ज्ञानपुर, भदोही । भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता, लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया. वह 74 साल के थे. पासवान कई सप्ताह से अस्पताल में भर्ती थे. दिल्ली

नहीं रहे गरीबों व दलितों की आवाज बुलंद करने वाले राजनेता-घनश्याम ।

ए •के• फारूखी ( रिपोर्टर)

ज्ञानपुर, भदोही ।

भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता, लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया. वह 74 साल के थे. पासवान कई सप्ताह से अस्पताल में भर्ती थे. दिल्ली के प्राइवेट अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था.

उनके निधन की खबर से भदोही के लोजपा पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं में शोक की लहर व्याप्त हो गई।लोक जनशक्ति  पार्टी भदोही की जिला अध्यक्ष  घनश्याम  पासवान  की अध्यक्षता में  औराई के  महदेपुर कार्यालय पर 2 मिनट का मौन रहकर  केंद्रीय मंत्री  खाद्य उपभोक्ता  रामविलास पासवान  के असामयिक निधन पर  शोक संवेदना  व्यक्त की गई 

अपने शोक संदेश में  जिला अध्यक्ष घनश्याम पासवान ने  कहा कि  पासवान जी  के असामयिक निधन का समाचार दुखद है । गरीब और  दलित वर्ग ने  आज अपनी  एक बुलंद राजनैतिक  आवाज को खो दिया है। उन्होंने बताया कि पासवान कई सप्ताह से अस्पताल में भर्ती थे।

हाल ही में उनकी हार्ट सर्जरी हुई थी। फोर्टिस एस्कॉर्ट हार्ट इंस्टीट्यूट की तरफ से जारी बयान के अनुसार, पिछले 24 घंटों में पासवान के स्वास्थ्य में गिरावट आई और गुरुवार को शाम छह बजकर पांच मिनट (06:05 शाम) पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

प्रदेश संगठन मंत्री भदोही डा0 शिवशंकर भारती ने कहा कि दुख बयान करने के लिए शब्द नहीं हैं। हमारे देश में ऐसा शून्य पैदा हुआ है जो शायद कभी नहीं भरेगा । उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा, ‘‘श्री रामविलास पासवान जी का निधन देश के लिये अपूर्णीय क्षति है ।

देश ने एक ऐसा नेता खोया है जो पूरे जुनून के साथ हमेशा यह सुनिश्चित करना चाहता था कि प्रत्येक गरीब व्यक्ति सम्मानपूर्वक जीवन व्यतीत करे। शोक संवेदना में दीपक कुमार सरोज, दूधनाथ पासवान, रामप्रसाद, राजनाथ, ताराशंकर, राम मनोहर, लाल चंद सरोज आदि रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel