स्वतंत्र प्रभात आज की टॉप 3 ख़बरे प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना से आत्मनिर्भर होंगे मत्स्य पालक

प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना से आत्मनिर्भर होंगे मत्स्य पालक स्वतंत्र प्रभात रामजी तिवारी उन्नाव। भारत सरकार द्वारा मत्स्य उत्पादन एवं उत्पादकता को बढ़ाये जाने हेतु ब्लू रिवोल्यूशन इन्टीग्रेटेड डेवलपमेन्ट एण्ड मैनेजमेंट आॅफ फिशरीज योजना के स्थान पर 20 मई 2020 से एक नई केन्द्रीय योजना प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना को लागू किया गया है। जिसमें

प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना से आत्मनिर्भर होंगे मत्स्य पालक

स्वतंत्र प्रभात रामजी तिवारी उन्नाव। भारत सरकार द्वारा मत्स्य उत्पादन एवं उत्पादकता को बढ़ाये जाने हेतु ब्लू रिवोल्यूशन इन्टीग्रेटेड डेवलपमेन्ट एण्ड मैनेजमेंट आॅफ फिशरीज योजना के स्थान पर 20 मई 2020 से एक नई केन्द्रीय योजना प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना को लागू किया गया है। जिसमें केन्द्र पुरोनिधानित योजनाएं तथा केन्द्र पोषित योजनाएं समाहित हैं। यह योजना 05 वर्ष तक अर्थात प्रदेश में वर्ष 2020 से वर्ष 2025 तक क्रियान्वित की जायेगी। प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना को प्रदेश में लागू किये जाने व उसके क्रियान्वयन हेतु दिशा.निर्देश जारी कर दिया गया है।
इस योजना का उद्देश्य मात्स्यिकी क्षमता सतत, उत्तरदायी, समावेशी और सामयिक तरीके से विदोहन करना, मात्स्यिकी उत्पादन में विस्तारीकरण, सघनतापूर्वक एवं विविधीकरण के माध्यम से वृद्धि करना एवं भूमि व जल का उपजाऊ उपयोग करना, मूल्य वर्धित श्रृंखला का आधुनिकीकरण, सुदृढ़ीकरण एवं मत्स्य निकासी के बाद के प्रबन्धन व गुणवत्ता में सुधार, मछुआरों व मत्स्य पालकों की आय को दोगुनी करना व रोजगार सृजन, कृषि के सकल मूल्य वर्धित एवं निर्यात में मात्स्यिकी गतिविधियों की हिस्सेदारी बढ़ाना, मछुआरों व मत्स्य पालकों को सामाजिक व आर्थिक जोखिम से सुरक्षा प्रदान करना, मजबूत मत्स्य प्रबन्धन और नियामक ढांचा तैयार करना है। इस योजना के माध्यम से देश का मत्स्य उत्पादन 13.75 मिलियन मीट्रिक टन से 22 मिलियन मीट्रिक टन तक ले जाने तथा 15 लाख रोजगार सृजन करने का लक्ष्य है। भारत सरकार द्वारा वित्त पोषण पद्धति योजना के अन्तर्गत 20050 करोड़ रूपए की धनराशि के बजट का प्राविधान किया गया है जिसमें से केन्द्र पुरोनिधानित योजनाओं के लिए धनराशि 18330 करोड़ मात्राकृत की गयी है तथा केन्द्र पोषित योजनायें की योजनाओं के लिए धनराशि 1720 करोड़ मात्राकृत है। केन्द्र पोषित योजनाओं में शत-प्रतिशत भारत सरकार की हिस्सेदारी है तथा केन्द्र सरकार की क्रियान्वयन संस्थाओं के माध्यम से सीधे लाभार्थीपरक व समूह आधारित योजनायें संचालित होंगी उनमें सामान्य वर्ग के लाभार्थियों को कुल इकाई लागत का 40 प्रतिशत तथा अनुसूचित जाति/जनजाति व महिला लाभार्थियों को कुल इकाई लागत का 60 प्रतिशत केन्द्रीय सहायता अनुदान के रूप में उपलब्ध कराया जायेगा। प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के अन्तर्गत मछुआ समुदाय के लोग मत्स्य पालक मात्स्यिकी क्षेत्र के स्वयं सहायता समूह, सहकारी संघ तथा मात्स्यिकीय सहकारी समितियां, अनुसूचित जाति/जनजाति, महिला, दिव्यांगजन आदि लाभान्वित होंगे। इस योजना का उद्देश्य है कि सबसे कमजोर व्यक्ति को लाभान्वित कराते हुए उसकी आर्थिक स्थिति मजबूत करना है। सरकार की नीति है कि किसानों की आय दोगुनी करना है। इसी के तहत खेती किसानी के तहत मत्स्य पालन भी करके किसान, मत्स्य पालक अपनी आय बढ़ा सकते हैं। सरकार की आत्मनिर्भर नीति के तहत लागू की गई इस योजना से मत्स्य पालन करने वाले लोग लाभान्वित होंगे और उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।

गोपीनाथ पुरम में परिवार को कोरोना की पुष्टि, पाॅजिटिव के भागने पर हुआ केस

स्वतंत्र प्रभात आसिम अली शुक्लागंज-उन्नाव। बुधवार को कोरोना पाॅजिटिव के संपर्क में आने वालों की रैपिड़ एंटीजन किट से जांच की गई। जांच में गोपीनाथ पुरम मोहल्ला निवासी एक परिवार के दंपत्ति और उनका बेटे समेत तीन को कोरोना की पुष्टि हुई। वहीं कंचन नगर निवासी एक कोरोना संक्रमित पाॅजिटिव होने के बावजूद घर से भाग निकला। जिस पर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।
राजधानी मार्ग स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में बुधवार को डाॅ0 आशुतोष वाष्र्णेय और एलटी अमित कुशवाहा ने जांच की। वहीं ठाकुर खेड़ा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में वरिष्ठ स्वास्थ्य पर्यवेक्षक प्रदीप दिवाकर ने जांच की। इसके अलावा डोर टू डोर जांच कराई गई। बुधवार को 88 लोगों की जांच हुई। जिसमें गोपीनाथ पुरम के 61 वर्षीय बुजुर्ग और 55 वर्षीय उसकी पत्नी और 21 वर्षीय बेटा संक्रमित पाया गया। वहीं मंगलवार को कंचन नगर निवासी एक तीस वर्षीय युवक कोरोना पाॅजिटिव पाया गया था। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उससे संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन उसने अपना फोन बंद कर लिया। टीम उसके घर पहुंची जहां वह घर से भाग गया। प्रभारी चिकित्साधिकारी डाॅ0 आशुतोष वाष्र्णेय ने बताया कि जिलाधिकारी और सीएमओ के निर्देश पर उसके खिलाफ कोविड 19 के नियमों के उल्लंघन करने पर मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

होम आइसोलेट हुये पाॅजिटिव के घरों में चस्पा होंगे पोस्टर: सीएमओ

स्वतंत्र प्रभात आसिम अली शुक्लागंज-उन्नाव। गंगाघाट क्षेत्र में कोरोना पाॅजिटिव की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है। जिस कारण स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं होम आइसोलेट हुये कोरोना पाॅजिटिव कोविड 19 के नियमों को न मानकर घूमते देखे जा रहे हैं। जिसे देखते हुये बुधवार को सीएमओ नगर पहुंचे और प्रभारी चिकित्साधिकारी को दिशा निर्देश दिये। इस दौरान उन्होंने बताया कि होम आइसोलेट हुये संक्रमितों के घर के बाहर पोस्टर चस्पा किये जायेंगे।
नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक 5 सौ 97 कोरोना पाॅजिटिव मिल चुके हैं। जिसमें चार सौ तीस लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। वहीं चैदह लोगों की कोरोना से मौत भी हो चुकी है। जबकि पाॅजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 84 लोगों को होम आइसोलेट किया है। होम आइसोलेट होने के बावजूद संक्रमित कोविड 19 के नियमों को नहीं मान रहे थे और बाजारों में घूम-घूमकर कोरोना संक्रमण फैला रहे थे। जिसे देखते हुये बुधवार को सीएमओ डाॅ0 कैप्टन आशुतोष कुमार राजधानी मार्ग स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे। जहां उन्होंने प्रभारी चिकित्साधिकारी डाॅ0 आशुतोष वाष्र्णेय और वरिष्ठ स्वास्थ्य पर्यवेक्षक प्रदीप दिवाकर को निर्देशित करते हुये कहा कि पाॅजिटिव के घर के बाहर पोस्टर चस्पा किये जाये। जिसके बाद पड़ोसियांे को भी जानकारी दी जाये यदि पाॅजिटिव घर के बाहर निकलता है तो पड़ोसी उसे रोके। इसके बावजूद वह नहीं मानता है तो स्वास्थ्य विभाग को सूचना दे। जिस पर उसके खिलाफ कोविड 19 नियम का उल्लंघन करने का मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष