शासकीय भवनों पर बनाऐं रूफटॉप रेनवाटर हार्वेस्टिंग -डीएम

अमेठी। 09 सितम्बर, जिलाधिकारी अरुण कुमार ने बताया कि भविष्य के लिए जल संग्रहण करने हेतु जल संचयन के कार्यों को सरकार की प्राथमिकता में सम्मिलित किया गया है। शासन द्वारा प्रदेश के समस्त जनपद के समस्त शासकीय शासकीय भवनों तथा स्कूल कॉलेजों के भवन पर अनिवार्य रूप से रूफटॉप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना

अमेठी। 09 सितम्बर,  जिलाधिकारी  अरुण कुमार ने बताया कि भविष्य के लिए जल संग्रहण करने हेतु जल संचयन के कार्यों को सरकार की प्राथमिकता में सम्मिलित किया गया है। शासन द्वारा प्रदेश के समस्त जनपद के समस्त शासकीय शासकीय भवनों तथा स्कूल कॉलेजों के भवन पर अनिवार्य रूप से रूफटॉप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना के निर्देश दिए गए हैं । इस दशा में विशेष प्रयास करते हुए शासन स्तर से लघु सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता/ सहायक अभियंता को जनपद स्तर पर रूफटॉप रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना के कार्यों की प्रगति का अनुश्रवण करने हेतु नोडल अधिकारी नामित किया गया है।

जल संचयन को व्यापक जन सहभागिता द्वारा जन आंदोलन का रूप दिए जाने की आवश्यकता है इसमें समस्त नागरिकों से सक्रिय योगदान की अपेक्षा की गई है। समस्त व्यवसायिक प्रतिष्ठानों औद्योगिक इकाइयों गैर सरकारी संगठनों एवं कृषिको इत्यादि से अनुरोध है कि अपने अपने कार्य क्षेत्रों में रेन वाटर होस्टिंग प्रणाली स्थापित करते हुए जल संचयन के कार्य प्रभावी रूप से किए जाएं ग्रामीण क्षेत्रों में महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत भी व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक स्थानों पर जल संचयन के विविध कार्य किए जा रहे हैं जिसमें गांव के शासकीय विद्यालयों पर रूफटॉप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना तथा लाभार्थी कृषक के खेतों में तालाब, रिचार्ज पिट इत्यादि कार्य सम्मिलित हैं इसके लिए खंड विकास अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है जल संचयन कार्यों के लिए सुलभ डिजाइनिंग भूगर्भ जल विभाग की वेबसाइट upgwd.gov.in मनरेगा की वेबसाइट www.nrega.nic.in अथवा जनपद के भूगर्भ जल विभाग लघु सिंचाई विभाग से प्राप्त कर नई तकनीकी के आधार पर कृषक आम नागरिक औद्योगिक इकाइयां तथा गैर सरकारी संगठन इस अवधि  अपना सकते हैं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष