हत्या के अभियोग में वांछित को पुलिस ने किया गिरफ्तार

अमेठी। मामला बीते साल 2 सितंबर का है जब को वादी अभिषेक कुमार ने थाना पीपरपुर में लिखित सूचना दिया था कि दिनांक एक सितंबर को 220 केवी सांगीपुर पारेषण लाइन ट्रिपलिंग के कारण भगवती ट्रेडर्स राजगढ़ प्रतापगढ़ के श्रमिकों द्वारा अनुरक्षण कार्य कराया जा रहा था। वादी के मुताबिक ग्रामीणों राकेश, रामहेत, शिवसरन, सत्यानन्द,

अमेठी।  मामला बीते साल 2 सितंबर का है जब को वादी अभिषेक कुमार ने थाना पीपरपुर में लिखित सूचना दिया था कि दिनांक एक सितंबर को 220 केवी सांगीपुर पारेषण लाइन ट्रिपलिंग के कारण भगवती ट्रेडर्स राजगढ़ प्रतापगढ़  के श्रमिकों द्वारा अनुरक्षण कार्य कराया जा रहा था। वादी के मुताबिक ग्रामीणों राकेश, रामहेत, शिवसरन, सत्यानन्द, हृदयराम, परामानन्द, दीपक गुप्ता व 10-15 अन्य अज्ञात द्वारा कार्य को बन्द कराने के लिए दबाव बनाया गया तथा उग्र होकर लाठी डण्डे व धारदार हथियार से मदजूरों को मारा पीटा गया जिसमें काफी मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गये तथा मजदूरों में से एक मजदूर मृतक सियाराम जो ट्रामा सेंटर लखनऊ में मृत घोषित कर दिया गया था। वादी  कि सूचना पर पीपरपुर थाने मे मु0अ0सं0 311/2019 धारा 147,148,324,307,302,427 भादवि व 3(2)5 एससी/एसटी एक्ट पंजीकृत किया गया था।

            इसी मामले मे एक वांछित को पुलिस ने गिरफ्तार किया। पुलिस अधीक्षक दिनेश सिंह ने बताया कि अमेठी क्षेत्राधिकारी पीयूष कान्त राय के पर्यवेक्षण में दिनांक 10.08.2020 को थाऩाध्यक्ष संतोष सिंह के निकट नेतृत्व में मु0अ0सं0 311/19 धारा 147,148,324,307,302,427 भदावि व 3(2)5 एससी/एसटी एक्ट में वांछित व दिनांक 02/01/2020 से फरार चल रहे अभियुक्त बबलू तिवारी पुत्र शिव कुमार तिवारी निवासी ग्राम लोधीपुर मजरे अमेयमाफी थाना पीपरपुर जनपद अमेठी को मुखबिर की सूचना पर हारीपुर नदी पुल के पास से समय करीब 7:30बजे प्रात: गिरफ्तार किया गया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त थाना पीपरपुर का टॉप 10 अपराधी है। घटना के अन्य 13 अभियुक्त पूर्व में विभिन्न तिथियों में गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके हैं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष