वेतन न मिलने से आक्रोशित कोरोना वारियर्स ने की हड़ताल नगर पालिका गेट पर प्रदर्शन

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो बांगरमऊ-उन्नाव। नगर पालिका परिषद में तैनात आर्यन ग्रुप संस्था के एक सैकड़ा से अधिक सफाई कर्मियों को बीते तीन माह से मजदूरी का भुगतान नहीं हो सका है। वेतन भुगतान न होने से आक्रोशित सफाई कर्मी बीते तीन दिनों से काम बंद हड़ताल पर हैं। आज सभी ठेका सफाई कर्मियों ने नगर

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो बांगरमऊ-उन्नाव। नगर पालिका परिषद में तैनात आर्यन ग्रुप संस्था के एक सैकड़ा से अधिक सफाई कर्मियों को बीते तीन माह से मजदूरी का भुगतान नहीं हो सका है। वेतन भुगतान न होने से आक्रोशित सफाई कर्मी बीते तीन दिनों से काम बंद हड़ताल पर हैं। आज सभी ठेका सफाई कर्मियों ने नगर पालिका कार्यालय गेट पर जमकर प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने प्रमुख मार्ग उन्नाव हरदोई रोड पर जाम लगाने का प्रयास किया। पुलिस के हस्तक्षेप के चलते कर्मचारियों ने धरना-प्रदर्शन आगामी पांच अगस्त तक स्थगित कर दिया।
आर्यन ग्रुप ठेका सफाई कर्मचारी ग्रुप लीडर कपिल ने बताया कि संस्था की ओर से नगर पालिका परिषद में कुल 132 सफाई कर्मचारी तैनात हैं।

वेतन न मिलने से आक्रोशित कोरोना वारियर्स ने की हड़ताल नगर पालिका गेट पर प्रदर्शन
वेतन न मिलने से आक्रोशित कोरोना वारियर्स ने की हड़ताल
नगर पालिका गेट पर प्रदर्शन कर वेतन दिलाने की मांग

इनमें मात्र 84 सफाई कर्मियों को 9240 रुपए प्रतिमाह के हिसाब से एक माह के वेतन का भुगतान कर दिया गया है। जबकि ठेका सफाई कर्मियों का 3 माह का वेतन बकाया है। सफाई कर्मचारियों के अनुसार साइट इंचार्ज संदीप बीते दो माह से वेतन जल्द भुगतान करने का आश्वासन देता चला रहा है लेकिन बीते करीब एक पखवारा से साइट इंचार्ज नदारद है। संपर्क करने पर वह सिर्फ आश्वासन की घुट्टी पिलाने का काम कर रहा है। जबकि हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार रक्षाबंधन आगामी सोमवार के दिन है। वेतन के अभाव के चलते उनके घर में भोजन के लिए एक दाना भी नहीं है और त्योहार पर उनके बच्चे सूखी रोटी खाने को मजबूर हो जाएंगे। आज सभी सफाईकर्मी लामबंद होकर नगर पालिका कार्यालय के गेट पर प्रदर्शन करने लगे।

सफाई कर्मियों ने प्रमुख मार्ग उन्नाव हरदोई रोड पर यातायात ठप्प करने का भी प्रयास किया। सूचना मिलते ही कस्बा इंचार्ज विजय प्रकाश भारी पुलिसबल के साथ आ धमके। कस्बा इंचार्ज ने आर्यन ग्रुप के साइट इंचार्ज से वार्ता कर आगामी 5 अगस्त को वेतन के भुगतान का वादा किया। इस पर सफाई कर्मियों ने वादे के मुताबिक आज धरना प्रदर्शन समाप्त कर दिया लेकिन काम बंद हड़ताल जारी रहेगी। प्रदर्शन में शिवम मेवालाल संतोष अजय शानू अरविंद अमित सरवन व सुमित आदि सहित सभी ठेका सफाई कर्मचारी शामिल रहे।

इन्सेट
जिद पर अड़े सफाईकर्मीः ईओ
बांगरमऊ-उन्नाव। नगर पालिका की अधिशासी अधिकारी मीनू सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा ठेका सफाई कर्मियों का मात्र एक माह की मजदूरी का धन पालिका के खाते में भेजा गया है। यह धन पालिका ने आर्यन ग्रुप के खाते में स्थानांतरित कर दिया है। आर्यन ग्रुप ने भी कुल 84 सफाई कर्मियों का वेतन भुगतान कर दिया है। सरकार से पैसा मिलते ही सभी कर्मचारियों का वेतन भुगतान कर दिया जाएगा। वह सफाई कर्मियों को अगस्त माह के प्रथम सप्ताह में वेतन भुगतान का आश्वासन भी दे चुकी हैं लेकिन ठेका सफाई कर्मी अपनी जिद पर अड़े हुए हैं।

इन्सेट
हड़ताल से नगर में कूड़े का अंबार
बांगरमऊ-उन्नाव। नगर पालिका के ठेका सफाई कर्मचारी बीते तीन दिनों से काम बंद हड़ताल पर हैं। खास बात तो यह है कि अधिकांश ठेका सफाईकर्मी प्रमुख मार्ग उन्नाव हरदोई रोड, संडीला रोड, लखनऊ रोड तथा नानामऊ रोड पर तैनात हैं। हड़ताल के चलते नगर के प्रमुख मार्गो पर कूड़े का अंबार लग गया है। बारिश होने के बाद कूड़ा सड़ रहा है और उससे भीषण दुर्गंध उठ रही है। कूड़े की दुर्गंध से संक्रामक रोगों के फैलने की आशंका है। नगर उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष रविकांत गुप्त ने जिला प्रशासन से सफाई कर्मियों के वेतन भुगतान का मामला जल्द निपटाने की मांग उठाई है।
इन्सेट
हड़ताल से संक्रमण का बढ़ा खतरा
बांगरमऊ-उन्नाव। नगर पालिका के ठेका सफाई कर्मचारियों के द्वारा इस तरह की हड़ताल करना नगर में चर्चा का विषय बनी है। वैश्विक महामारी कोविड.19 के चलते जहां एक और प्रदेश सरकार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए तरह-तरह के नियम लागू कर रही है। वहीं हड़ताल के दौरान सैकड़ों की संख्या में झुंड बनाकर प्रदर्शन करना किसी महामारी को बढ़ावा देने से कम नहीं है। इस दौरान नगर पालिका परिषद के अधिकारी व स्थानीय पुलिसबल मूकदर्शक बने रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel