कुशीनगर:पीड़ित छात्रा से मैं जो कह रहा हूं वही बयान दो-विवेचक

तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र का मामला स्वतंत्र प्रभात कुशीनगर,उप्र। तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी एक पीड़ित व्यक्ति ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती प्रार्थना पत्र दिया है। जिसमें आरोप लगाया है कि उसकी 15 वर्षीय नाबालिक लड़की को एक युवक बहला फुसलाकर भगा ले गया।पुलिस ने दोनों को बरामद कर भी कर लिया हैं।वहीं इस

तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र का मामला

स्वतंत्र प्रभात

कुशीनगर,उप्र।

तुर्कपट्टी थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी एक पीड़ित व्यक्ति ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती प्रार्थना पत्र दिया है। जिसमें आरोप लगाया है कि उसकी 15 वर्षीय नाबालिक लड़की को एक युवक बहला फुसलाकर भगा ले गया।पुलिस ने दोनों को बरामद कर भी कर लिया हैं।वहीं इस घटना की विवेचना कर रहें विवेचक युवती को ब्यान बदलने के लिए धमकी दे रहें हैं।युवती पुलिस कस्टडी में हैं।पीड़ित ने न्याय की उम्मीद से गुहार लगाई हैं।

इस बावत पीड़ित पिता ने पुलिस कप्तान को दिए शिकायती प्रार्थना पत्र में जिक्र किया है कि उसकी लड़की निशा जो कक्षा दसवीं की छात्रा है और उम्र से नाबालिक है ।उसके गांव में ही अपने मौसी के घर रह रहे एक युवक अपने मौसा और मौसी द्वारा साजिश रचने और रुपया देकर दोनों को भगा दिए ,जब इस घटना की जानकारी परिजनों को हुई तो वह मुकामी थाने पहुंच पुलिस को नामजद तहरीर देकर कार्रवाई का मांग किया।

पुलिस ने इस मामले में धारा 363 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया।पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए युवक व युवती को 28 जुलाई को लखनऊ से बरामद कर लिया ।युवती के पिता ने आगे प्रार्थना पत्र में जिक्र किया है कि विवेचक द्वारा उसके पुत्रीव पर बार-बार दबाव बनाया जा रहा है कि वह अपना बयान बदल दे, मैं जो कह रहा हूं वही बयान दे युवती तैयार नहीं हो रहीं हैं तो उसे तरह तरह की धमकी भी दी जा रही हैं, जिससे युवती डरी सहमी हैं।

वहीं विवेचक द्वारा कानूनी कार्रवाई में घोर लापरवाही बरती जा रही है। जिससे पुलिसिया कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान भी खड़े हो रहे हैं।

खबर यह भी पढ़े…

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel