सरेआम पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या पर हिन्दू जागरण मंच ने जताया रोष निकाला कैंडल मार्च

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो:-उन्नाव – आज हिन्दू जागरण मंच के प्रांतीय मंत्री एवं प्रभारी विमल द्विवेदी के नेतृत्व में गाज़ियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की सरेआम हत्या पर हिन्दू जागरण मंच ने शहर में बड़े चौराहे से लेकर शास्त्री प्रतिमा तक एक कैंडल मार्च निकाला व दिवंगत पत्रकार को श्रद्धांजली दी व इस घटना पर पुलिस

स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो:-उन्नाव – आज हिन्दू जागरण मंच के प्रांतीय मंत्री एवं प्रभारी विमल द्विवेदी के नेतृत्व में गाज़ियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की सरेआम हत्या पर हिन्दू जागरण मंच ने शहर में बड़े चौराहे से लेकर शास्त्री प्रतिमा तक एक कैंडल मार्च निकाला व दिवंगत पत्रकार को श्रद्धांजली दी व इस घटना पर पुलिस की लचर कार्यशैली पर सवाल भी खड़े किए उन्होंने कहा जब हत्या से 2-3 दिन पहले अपनी भांजी के साथ छेड़खानी का प्रार्थनापत्र पुलिस को दिया था तभी कोई कार्यवाही क्यों नही की गई और घटना वाले दिन भी पत्रकार विक्रम जोशी जब अपनी बहन के यहाँ डिनर पर गए थे तभी बदमाश बहन के घर के नीचे खड़े होकर गाली गलौज कर रहे थे

पत्रकार द्वारा सम्बन्धित थानाध्यक्ष को फोन करने के बावजूद थानाध्यक्ष ने आने से मना कर दिया और पत्रकार की अपनी बहन के घर से 200 मीटर आगे जाने पर उनकी दोनों बेटियों के सामने हत्या कर दी गई,जिससे पुलिस की लापरवाही साफ़ तौर पर जाहिर होती है !पत्रकार विक्रम जोशी के भांजे द्वारा मीडिया को बताया गया है की कोई आसपास रहने वाला कमालुद्दीन का लड़का उसकी बहन को रोज छेड़ता था जिसकी शिकायत उसके मामा ने पुलिस से की थी विमल द्विवेदी ने कहा अक्सर ऐसे जेहादी अपराधी तत्वों का मिशन लव जिहाद भी रहा हो सकता हो सफल न होने पर जबरन उठवाने का दबाव बनाया जा रहा होगा ऐसे में पुलिस को समय रहते कार्यवाही करना जरुरी था लेकिन पुलिस अपराधियों के सामने सुस्त बनी रही जोकि दुखद है।

समय समय पर पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठते रहते है क्योंकी कुछ पुलिस कर्मी आज भी ब्रिटिश काल की मानसिकता में ही काम करती है जिसका बदलना जरुरी है एवं लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ मीडिया के प्रहरियो के सम्मान एवं सुरक्षा को सुनिश्चित करना आवश्यक है क्योंकी अभी उन्नाव में भी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाने पर पत्रकार संकल्प दीक्षित पर ही फर्जी मुकदमा पुलिस द्वारा लिखकर दबाव बनाने का प्रयास किया गया था ऐसी मानसिकता से बाहर आकर पुलिस को समाज में भयमुक्त माहौल बनाने के लिए काम करना चाहिए क्योंकी गाज़ियाबाद कांड में अगर पुलिस समय रहते कार्यवाही कर देती तो इस हत्या को रोका जा सकता था ऐसे में जरुरी है 2006 में जारी सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशो के तहत पुलिस सुधार लागू किए

जाए।इस अवसर पर इस दौरान मंच के जिलाध्यक्ष अजय त्रिवेदी ,नगर अध्यक्ष विकास सिंह सेंगर ,नगर महामन्त्री धर्मेन्द्र शुक्ला ,उपाध्यक्ष शिवसेवक त्रिपाठी ,उपाध्यक्ष शिवम् आजाद ,नगर उपाध्यक्ष जय शिव अवस्थी,राजेश शुक्ला, उपाध्यक्ष विक्रम द्विवेदी, मंत्री अखिल मिश्रा ,अमन तिवारी ,पप्पी शुक्ला ,अभिषेक तिवारी ,दीपक तिवारी सोनू शुक्ला ,शोभित शुक्ला ,विकास जैशवाल ,अमित मिश्रा ,महेश तिवारी धीरेन्द्र शुक्ला आदि लोग मौजूद रहे I

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने दी गौतम नवलखा को जमानत- '4 साल में भी आरोप तय नहीं'। सुप्रीम कोर्ट ने दी गौतम नवलखा को जमानत- '4 साल में भी आरोप तय नहीं'।
स्वंतत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एल्गार परिषद-माओवादी संबंध मामले में मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को जमानत दे...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel