प्रवासियों के आवागमन पर रोक, बनाया एक और रैन बसेरा

प्रवासियों के आवागमन पर रोक, बनाया एक और रैन बसेरा

– यूपी-हरियाणा बॉर्डर पर प्रशासन ने बढाई सख्ती- रैन बसेरे में निराश्रित लोगों की होगी देखभाल कैराना। प्रशासन ने यूपी हरियाणा बॉर्डर से प्रवासियों के आवागमन पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी है। इसके साथ ही प्रशासन द्वारा ने निराश्रित लोगों के लिए एक और रैन बसेरा बनाया गया है। रैन बसेरे में निराश्रित

– यूपी-हरियाणा बॉर्डर पर प्रशासन ने बढाई सख्ती- रैन बसेरे में निराश्रित लोगों की होगी देखभाल

कैराना। प्रशासन ने यूपी हरियाणा बॉर्डर से प्रवासियों के आवागमन पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी है। इसके साथ ही प्रशासन द्वारा ने निराश्रित लोगों के लिए एक और रैन बसेरा बनाया गया है। रैन बसेरे में निराश्रित लोगों को रखकर उनकी देखभाल की जाएगी।   सोमवार को लॉकडाउन का पालन सुनिश्चित कराने के लिए प्रशासन द्वारा यूपी-हरियाणा बॉर्डर को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। यहां से प्रवासियों के गुजरने पर भी रोक लगा दी है। किसी को इधर-उधर नहीं जाने दिया जा रहा है। दूसरी ओर प्रशासन की ओर से नगर के शामली रोड पर स्थित पब्लिक इंटर कॉलेज में एक और रैन बसेरा बनवाया गया है। इससे पूर्व दो दिन पहले प्रशासन द्वारा अंबा पैलेस में भी रैन बसेरा बनवाया गया था। रैन बसेरे में क्षेत्र के निराश्रित लोगों को रखा जाएगा।

प्रवासियों के आवागमन पर रोक, बनाया एक और रैन बसेरा

जहां पर उनकी देखभाल की जाएगी। भोजन व पेयजल की व्यवस्था भी कराई गई है। हालांकि फिलहाल रैन बसेरे में कोई निराश्रित नहीं पहुंचा है। प्रशासन ने निराश्रित लोगों से इधर-उधर न रहकर रैन बसेरे में रहने की अपील की है। एसडीएम देवेंद्र सिंह का कहना है कि यूपी-हरियाणा बॉर्डर को सील करने के बाद किसी भी प्रवासी का प्रवेश नहीं किया गया है। नगर के पब्लिक इंटर कॉलेज में एक और निराश्रित लोगों के लिए रैन बसेरा बनवाया गया है। एक रैन बसेरा पहले ही अंबा पैलेस में बनवाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि आवश्यकता पड़ने पर चिकित्सा सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएगी। एसडीएम ने यह भी चेताया कि अनावश्यक रूप से बाहर निकलने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel