डवल मर्डर से नगर में फैली सनसनी, मुकदमा दर्ज

डवल मर्डर से नगर में फैली सनसनी, मुकदमा दर्ज

पैरोल पर रिहा हुए हत्यारोपी ने भाई व भाभी को मारी गोली एक माह की पैरोल पर आये था मृतक व हत्यारोपी आगरा की जेल में आजीवन कारावास की सजा में है निरूद्ध ललितपुर। रविवार सुबह रेलवे स्टेशन रोड पर स्थित ऐरा हाउस में पैरोल पर आये चचेरे भाई ने भाई व भाभी की गोली

पैरोल पर रिहा हुए हत्यारोपी ने भाई व भाभी को मारी गोली

एक माह की पैरोल पर आये था मृतक व हत्यारोपी

आगरा की जेल में आजीवन कारावास की सजा में है निरूद्ध

ललितपुर।

रविवार सुबह रेलवे स्टेशन रोड पर स्थित ऐरा हाउस में पैरोल पर आये चचेरे भाई ने भाई व भाभी की गोली मारकर हत्या कर दी, गोली चलने की आवाज सुनते ही क्षेत्र में सनसनी फैल गई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मुख्य हत्यारोपी को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने मृतक के पुत्र की तहरीर पर चार हत्यारोपियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है।थाना जाखलौन के ग्राम ऐरा निवासी राम आसरे पुत्र छोटेलाल पटेल उम्र 45 वर्ष व उसकी पत्नी सुनीता उम्र 35 वर्ष रविवार सुबह अन्य परिजनों के साथ नई बस्ती क्षेत्र में स्थित ऐरा हाउस में थे, तभी राम आसरे का चचेरा भाई भरत पटेल आ गया, ओर तभी दोनों के बीच पैरोल का समय खत्म होने पर फरार हो जाने को लेकर विवाद होने लगा, देखते ही देखते विवाद ने उग्र रूप धारण कर लिया, आगरा जेल में हत्या के मामले में सजा काट रहे हत्यारोपी भरत ने आक्रोशित होकर तंमचे से चचेरे भाई को गोली मार दी,

पति को गोली लगते देख बचाने आई सुनीता के विरोध करने पर हत्यारोपी ने उसकों भी गोली मारकर हत्या कर दी। गोली चलने की आवाज सुन आस पास रहने वाले लोग घर से बाहर आ गए। ऐरा हाउस में रह रहे लोगो द्वारा दंपत्ति को रक्त रंजित हालत में उपचार के लिए जिला  अस्पताल  लाये, जहां चिकित्सकों ने दंपत्ति को मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलते ही शहर कोतवाल संजय शुक्ला अधिनस्थों के साथ मौके पर जा पहुंचे और मौका मुआयना कर मृतक के पुत्र की तहरीर पर एक मुख्य हत्यारोपी सहित तीन महिलाओं के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर मुख्य हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजने की तैयारी शुरू कर दी है।

मृतक व हत्यारोपी एक माह की पैरोल पर थे बाहरवर्ष दो हजार छह में रेलवे स्टेशन रोड पर स्थित मदनपुर हाउस के मालिक दीवान महेन्द्र सिंह के इकलौते पुत्र रविन्द्र प्रताप सिंह की हत्या के मामले में रामआसरे व हत्यारोपी भरत सहित करीव आधा दर्जन लोगो को आजीवन कारावास की सजा होने के बाद उन्हें आगरा जेल में निरूद्ध कर दिया गया था।

पांच दिसम्बर को मृतक व हत्यारोपी पैरोल पर घर आये थे, रविवार को दोनो को बापस आगरा जेल जाना था, तभी भरत पुत्र सुंदर पटेल निवासी नई बस्ती रविवार सुबह ऐरा हाउस जा पहुंचा ओर रामआसरे से जेल न जाकर भागने की बात करने लगा, विरोध करने पर भरत ने तंमचे से आक्रोशित होकर चचेरे भाई व भाई को गोली मारकर हत्या कर दी।बाक्स  . . . .इस तहरीर पर हुआ हत्या का मुकदमा दर्जमृतक के पुत्र अश्वनी ने बताया कि रविवार सुबह जब उसका पिता नगर में स्थित ऐरा हाउस  पर था,

तभी उसका चचेरा चाचा भरत अपनी पत्नी नीता, रंजना पत्नी जयदेव व मुख्य हत्यारोपी की मॉ रामदेवी निवासीगण मुहल्ला नई बस्ती तंमचे हाथ में लेकर घर में घुस आये ओर गाली गलौज करने लगे विरोध करने पर भरत व रंजना ने गोली चला दी, जिससे उसके पिता के दोनो साईड सीने के बगल में गोली लग गई, यह देख हत्यारोपियों ने एक गोली उसकी मॉ सुनीता की कमर पर चला दी, जिससे दोनो की मौके पर मौत हो गई। पुलिस ने पीडि़त की तहरीर पर नामजद आरोपितों के खिलाफ हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है।

हत्यारोपी के निशाने पर थे रंजिशकर्ताप्रत्यक्षदर्शियों व सूत्रों की माने तो रविवार सुबह मुख्य हत्यारोपी भरत करीव चार- पांच बजें ऐरा हाउस के पास रहने वाले रंजिशकर्ताओं के घर भी गया था, पैरोल समाप्त होने से पहले किसी बड़ी बारदात को अंजाम देने की फिराक में था, सुबह सुबह रंजिशकर्ताओं के न मिलने के बाद वह ऐरा हाउस जा पहुंचा, जहां  पैरोल समाप्त होने पर भाग जाने की बात करने लगा, हत्या के मामले में आजीवन की सजा काट रहे मृतक के परिवार व संपत्ति बर्वाद होने की बात कर ऐसा करने से मना किया,

जिसकों लेकर दोनो के बीच विवाद होने लगा, तभी भरत ने चचेरे भाई के सीने के बगल में व भाभी की कमर पर गोली मारकर हत्या कर दी।इनका कहना है नगर में भाई व भाभी की गोली मारकर हत्या की बारदात के बाद पुलिस ने तत्पर्ता से मुख्य हत्यारोपी व उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस गिरफ्त में आये मुख्य हत्यारोपी व उसकी पत्नी के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।कैप्टन एम एम बेगपुलिस अधीक्षक ललितपुर

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel