राजस्थान संकट के चलते सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे सचिन पायलट

राजस्थान संकट के चलते सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे सचिन पायलट

राजस्थान संकट के चलते सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे सचिन पायलट


स्वतंत्र प्रभात 

कांग्रेस की राजस्थान इकाई में भारी उथल-पुथल के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी से मुलाकात के लिए दिल्ली पहुंचे हैं. सूत्रों ने बताया कि पायलट ने सोनिया गांधी से मिलने का वक्त मांगा है, जो कि अभी तक नहीं दिया गया. उनके करीबी सूत्रों ने बताया कि अभी तक कोई बैठक तय नहीं हुई है.
राजस्थान में 90 से अधिक विधायक अशोक गहलोत के बाद सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनने का विरोध कर रहे हैं. सभी विधायकों ने सामूहिक इस्तीफा देने की धमकी दी थी. सूत्रों ने संकेत दिया है कि अशोक गहलोत के भी दिल्ली जाने और सोनिया गांधी से मिलने की संभावना है.

कांग्रेस की राजस्थान इकाई में संकट को लेकर पार्टी के पर्यवेक्षकों ने मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक के समानांतर विधायकों की अलग बैठक बुलाया जाना ‘घोर अनुशासनहीनता' है. इसके लिए मुख्य सचेतक महेश जोशी समेत तीन नेताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए. 

सूत्रों ने यह भी बताया कि जोशी के अलावा कैबिनेट मंत्री शांति धारीवाल और विधायक धर्मेंद राठौर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की गई है. ये तीनों नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी माने जाते हैं.

पर्यवेक्षकों की इस रिपोर्ट में मुख्यमंत्री गहलोत का सीधे तौर पर कोई हवाला नहीं दिया गया है. सोनिया गांधी ने सोमवार को दोनों पर्यवेक्षकों मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन से लिखित रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा था.

जयपुर में विधायक दल की बैठक नहीं हो पाने और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थक विधायकों के वस्तुत: बागी रुख अपनाने के बाद खड़गे और माकन सोमवार को दिल्ली लौटे थे तथा कांग्रेस अध्यक्ष के आवास 10 जनपथ पहुंचकर सोनिया गांधी से मुलाकात की थी. कांग्रेस के संगठन महासचिव के.सी. वेणुगोपाल भी बैठक में मौजूद थे. सोनिया गांधी के साथ डेढ़ घंटे से अधिक समय तक चली मुलाकात के बाद माकन ने कहा था कि जयपुर में रविवार शाम विधायक दल की बैठक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सहमति से बुलाई गई थी.

बता दें, राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक रविवार शाम को मुख्यमंत्री आवास पर होनी थी, लेकिन गहलोत के वफादार कई विधायक बैठक में नहीं आए. उन्होंने संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल के बंगले पर बैठक की और फिर वहां से वे त्यागपत्र देने के लिए विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी से मिलने चले गए थे.

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel