विकासखंड रुपईडीह मे सामुदायिक शौचालय के नाम पर हो रहा खेल सरकार के आदेशों को दिखा रहे ठेंगा सरकारी धन का हो रहा बंदरबांट

विकासखंड रुपईडीह मे सामुदायिक शौचालय के नाम पर हो रहा खेल सरकार के आदेशों को दिखा रहे ठेंगा सरकारी धन का हो रहा बंदरबांट

विकासखंड रुपईडीह मे सामुदायिक शौचालय के नाम पर हो रहा खेल सरकार के आदेशों को दिखा रहे ठेंगा सरकारी धन का हो रहा बंदरबांट



गोंडा जिले के विकासखंड रुपईडीह में स्वच्छ भारत मिशन के तहत 106 ग्राम पंचायतों में बनवाए गए सामुदायिक शौचालय आज तक नहीं हुए चालू समूह को किया गया है हैंड ओवर


स्वतंत्र प्रभात
गोंडा।

 विकासखंड रुपईडीह बना सरकारी धन बंदरबांट करने में अव्वल । स्वच्छ भारत मिशन के तहत ब्लाक के ग्राम पंचायतों में बनवाए गए सामुदायिक शौचालय में सरकार ने किए लाखों रुपए खर्च आज तक नहीं हुए चालू कुछ ग्राम पंचायतों में पड़े अधूरे सामुदायिक शौचालय तो कहीं पूरा बनने के बावजूद भी आज तक नहीं खुला ताला। 

बताते चलें कि  सरकार की मंशा के अनुरूप हर गांव में स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांव का शहरीकरण करने के लिए हर गांव में सामुदायिक शौचालय बनवाया गया । जिस पर प्रधान व संबंधित अधिकारियों की भ्रष्ट नजर से सरकारी धन का बंदरबांट जोरों पर किया गया ।

गोंडा जिले के विकासखंड रुपईडीह में स्वच्छ भारत मिशन के तहत

 जिससे स्वच्छ भारत मिशन को ठेंगा दिखाते हुए अधिकारियों व प्रधान की मिलीभगत से आज तक सामुदायिक शौचालयों का ताला नहीं खुला वहीं दूसरी तरफ सामुदायिक शौचालयों को सरकार की मंशा के अनुरूप आधे अधूरे बने सामुदायिक शौचालयों को समूह को हैंडोवर तो कर दिया गया हर महीने समूह को सामुदायिक शौचालय की देखरेख तथा साफ सफाई हेतु रुपए भी जारी किया जा रहा है 

जिस धन का बंदरबांट प्रधान संबंधित अधिकारी तथा समूह मिलकर के हड़प रहे हैं वही इस संबंध में खंड विकास अधिकारी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो सका अब देखना यह है की सामुदायिक शौचालयों का कब खुलेगा ताला। जांच होगी तो खुलेगा भ्रष्टाचारियों का जड़। सरकार के लाखों रुपए हो रहे बर्बाद। रुपईडीह ब्लॉक बना भ्रष्टाचारयो का जड़ सरकार की लाखों रुपए खर्च करने के बाद भी क्यों नहीं खुल रहा सामुदायिक शौचालय का ताला बना बड़ा प्रश्न चिन्ह।
 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel