तालिबान ने एक को फांसी दी, 63 लोगों को कोड़े मारे, इनमें 14 महिलाएं

 ये समलैंगिकता और अनैतिक संबंध के दोषि पाए गए थे

तालिबान ने एक को फांसी दी, 63 लोगों को कोड़े मारे, इनमें 14 महिलाएं

International Desk
अफगानिस्तान में तालिबान ने बुधवार को 14 महिलाओं सहित 63 लोगों को सार्वजनिक जगहों पर ले जाकर कोड़े मारे हैं। न्यूज एजेंसी AP के मुताबिक, इन लोगों को समलैंगिकता, चोरी और अनैतिक संबंध बनाने का दोषी पाया गया था। महिलाओं को एक सार्वजनिक स्टेडियम में कोड़े मारे गए हैं। संयुक्त राष्ट्र (UN) ने इस सजा की निंदा की है। इसे अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार नियमों के खिलाफ बताया है। तालिबान समलैंगिकता को इस्लाम के खिलाफ मानता है। उसने सरी पुल प्रांत में स्टेडियम में पहले लोगों को इकट्ठा किया था फिर कोड़े मारे। तालिबान लोगों को इस्लाम के रास्ते पर चलने को कहता है। साथ ही लोगों से ऐसा न करने पर सजा भुगतने की धमकी 

अफगानिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने आरोपियों का पक्ष नही सुना 
अफगानिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पहले मामले में सुनवाई की। इस दौरान आरोपियों को अपना पक्ष रखने के लिए ज्यादा उचित समय नही दिया गया, न ही आरोपियों की बात सुनी और सीधे फैसला दे दिया। इतना ही नहीं तालिबान ने एक व्यक्ति को स्टेडियम में हजारों लोगों के सामने पहले उसे पीटा और फिर फांसी पर लटका दिया। उस व्यक्ति पर हत्या में शामिल होने का आरोप था पर कोर्ट ने उसका पक्ष नहीं सुना और अपना फैसला दे दिया।

'सरेआम गुनहगारों को सजा मिले'
अफगानिस्तान में ​​तालिबान के आने के बाद 2022 में सुप्रीम लीडर हैबातुल्लाह अखुंदजादा ने एक घोषणा की थी। इसमें सभी जजों को आदेश दिए थे कि गुनहगारों को सरेआम सजा मिलनी चाहिए।
तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद से सरेआम सजा देने का चलन वापस लौटा।

24 नवंबर 2022 को तालिबान ने फुटबॉल स्टेडियम में हजारों की भीड़ के सामने 12 लोगों को नैतिक अपराधों का आरोपी बताकर पीटा था। इन 12 लोगों में 3 महिलाएं भी शामिल थीं। तालिबानी अधिकारी के मुताबिक इन लोगों पर चोरी, एडल्टरी और गे सेक्स के आरोप लगे थे। फिर नवंबर 2022 में ऐसा दूसरी बार हुआ जिसमें 19 लोगों को सरेआम सजा दी गई थी। नुरिस्तान प्रोविंस में एक महिला को म्यूजिक सुनने के आरोप में पीटा गया था। तालिबान के मुताबिक, ये सारी सजाएं शरिया कानून के मुताबिक दी थी।

शरिया के उल्लंघन पर मिलती है कड़ी सजा
सभी मुसलमानों से उम्मीद की जाती है कि वो इन्हीं कानूनों के हिसाब से अपनी जिंदगी जिएंगे। एक मुसलमान के दैनिक जीवन के हर पहलू, यानी उसे कब क्या करना है और क्या नहीं करना है का रास्ता शरिया कानून है। शरिया में पारिवारिक, वित्त और व्यवसाय से जुड़े कानून शामिल हैं। शराब पीना, नशीली दवाओं का इस्तेमाल करना या तस्करी करना यहां शरिया कानून के तहत सबसे बड़े अपराधों में से एक है।

जब कोई शख्स इस कानून को तोड़ता है तो उसे ईश्वर के खिलाफ किया गया अपराध माना जाता है। यही वजह है कि यहां इन अपराधों में कड़ी सजा के नियम हैं।

अफगानिस्तान का शरिया कानून, क्या है जानिए
तालिबान ने अफगानिस्तान को ओवरटेक करने के बाद की प्रेस कांफ्रेंस में इशारा कर दिया था कि देश के काफी सारे मसलों पर शरिया कानून लागू होगा। दरअसल शरिया इस्लाम को मानने वाले लोगों के लिए एक लीगल सिस्टम की तरह है। जिसमें रोजमर्रा की जिंदगी से लेकर कई तरह के बड़े मसलों पर कानून हैं।

शरिया का जिक्र इस्लाम की पवित्र किताब कुरान के साथ-साथ पैगंबर मुहम्मद के उपदेशों सुन्ना और हदीस में भी है। इन कानूनों के तहत आने वाले गुनाहों को सीधे भगवान की खिलाफत करना समझा जाता है। शरिया कानून में जिंदगी जीने का रास्ता बताया गया है।

 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

संसद भवन परिसर से स्वतंत्रता सेनानियों की मूर्तियों को शिफ्ट करने को लेकर भडका विपक्ष संसद भवन परिसर से स्वतंत्रता सेनानियों की मूर्तियों को शिफ्ट करने को लेकर भडका विपक्ष
स्वतंत्र प्रभात। एसडी सेठी। संसद भवन परिसर में लगी स्वतंत्रता सेनानियों की मूर्तियों को शिफ्ट किया जा रहा है। इस...

अंतर्राष्ट्रीय

Italy में मेलोनी ने की खास तैयारी जी-7 दिखेगी मोदी 3.0 की धमक Italy में मेलोनी ने की खास तैयारी जी-7 दिखेगी मोदी 3.0 की धमक
International Desk इटली की प्रधानमंत्री जार्जिया मेलोनी के निमंत्रण पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 जून को 50वें जी-7 शिखर सम्मेलन...

Online Channel