डीडी प्रसार भारती लोगो 'भगवा रंग' में तब्दील से कांग्रेस का रंग हुआ लाल,जताई नाराजगी

डीडी प्रसार भारती लोगो 'भगवा रंग' में तब्दील से कांग्रेस का रंग हुआ लाल,जताई नाराजगी

स्वतंत्र प्रभात। एस.डी सेठी।

 

दिल्ली दूरदर्शन के पब्लिक ब्राडकास्टर दूरदर्शन ने अपने एतिहासिक लोगो का रंग लाल से बदलकर केसारिया कर दिया है। इस बावत डीडी न्यूज के आधिकारिक एक्स हैंडल से बाकायदा घोषणा तक कर दी गई है।       

           लेकिन इस बात से  लिबरल और कांग्रेसियों के चेहरे तमतमा कर सुर्ख लाल जरूर हो गए हैं। अपनी नाराजगी में कांग्रेस ने भगवावाद और सरकारी संस्थानों पर कब्जा करने का प्रयास  तक बता डाला। वहीं सरकार की ओर से कहा गया कि  ,हालांकि हमारे मूल्य वहीं है ,हम अब एक नए अवतार में उपलब्ध है।वहीं आन्ध्रप्रदेश प्रदेश बीजेपी उपाध्यक्ष ने यह तक कह डाला कि दूरदर्शन 1959 में लाॅन्च किया गया था, तब इसका लोगो भगवा था। सरकार ने मूल लोगो को ही अपनाया है। लिबरल्स और कांग्रेस की नाराजगीजता रहे हैं।

यह साफ करता है कि वे भगवा और हिंन्दूओ के प्रति घृणा रखते है।वहीं दूरदर्शन की ओर से कहा गया है कि हम एक नए अवतार में उपलब्ध है। एक ऐसी समाचार यात्रा के लिए तैयार हो जाइये जो पहले कभी नहीं देखी गई। दर्शक अब बिल्कुल नए डीडीए न्यूज का अनुभव करें। हालांकि विपक्ष इस बदलाव से नाराज दिख रहा है। इस बावत टीएमसी के राज्यसभा सांसद और प्रसार भारती ( डीडी, एआईआर) के पूर्व सीईओ ,जवाहर सरकार ने लोगो के रंग बदलने की आलोचना करते हुए इसे 'दूरदर्शन का भगवाकरण' बताया।

उन्होंने एक्स पर लिखा ' राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन नए अपने एतिहासिक फ्लैगशिप लोगो को भगवा रंग में रंग दिया है। आगे लिखा कि मैं इसके भगवाकरण को चिंता के साथ देख रहा हूं,और महसूस कर रहा हूं 'यह अब प्रसारण भारती नहीं है,बल्कि यह प्रचार भारती है। वहीं कांग्रेस के मनीष तिवारी ने तो सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार की ओर से भगवावाद और सरकारी संस्थानों पर कब्जा करने का प्रयास है। उक्त कदम स्पष्ट रूप से भारत के पब्लिक ब्राडकास्टर की तटस्ता और विश्वसनीयता को कमजोर करता है।

 
 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष