प्रोफेसर को भारत सरकार से पहला कॉपीराइट मिला

प्रोफेसर को भारत सरकार से पहला कॉपीराइट मिला

स्वतंत्र प्रभात 


अलीगढ़,। अमुवि के डॉ. जेड.ए. डेंटल कॉलेज के बाल चिकित्सा और निवारक दंत चिकित्सा विभाग की अध्यक्ष प्रोफेसर साइमा यूनुस खान को 6 वर्ष तक के बच्चों के लिए साक्ष्य आधारित इंडियन कैरीज़ रिस्क असेसमेंट टूल पर उनके मूल अभिनव कार्य के लिए भारत सरकार द्वारा कॉपीराइट से सम्मानित किया गया है।


उन्होंने प्रतिष्ठित इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर डेंटल रिसर्च से जॉन क्लार्कसन फ़ेलोशिप प्राप्त करने पर 2021 में प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया था। इस फ़ेलोशिप को प्राप्त करने वाली पहली भारतीय होने के साथ ही उन्होंने डॉ. गेराल्ड निज़निक, कॉलेज ऑफ़ डेंटिस्ट्री, रेडी फैकल्टी ऑफ़ हेल्थ साइंसेज यूनिवर्सिटी ऑफ़ मैनिटोबा, कनाडा के साथ मिलकर काम किया।

डॉ. साइमा के अनुसार, सीआरए उपकरण भारतीय बच्चों के लिए फायदेमंद होगा क्योंकि यह भारतीय शिशुओं के क्षय के जोखिम कारकों को संबोधित करता है। यह एक छोटा कॉम्पैक्ट टूल फॉर्म है जिसका उपयोग अस्पताल या फील्ड सेटिंग्स में जनता द्वारा आसानी से किया जा सकता है।

मेडिसिन संकाय की डीन और जे.एन. मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य, प्रोफेसर वीणा माहेश्वरी, और डॉ. जेड.ए. डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के प्रिंसिपल, प्रोफेसर आर.के. तिवारी ने प्रोफेसर साइमा को उनकी अनुकरणीय उपलब्धि पर बधाई दी।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष