विपक्षी गठबंधन का रामलीला मैदान से पाॅवर गेम का आगाज, महारैली में जुटे मोदी के खिलाफ तमाम नेता

विपक्षी गठबंधन का रामलीला मैदान से पाॅवर गेम का आगाज, महारैली में जुटे मोदी के खिलाफ तमाम नेता

स्वतंत्र प्रभात। एसडी सेठी।

दिल्ली। आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली  सीएम अरविंद केजरीवाल को ईडी की गिरफ्तारी के खिलाफ तमाम विपक्षी गठबंधन के नेताओ ने रविवार को रामलीला मैदान से पीएम मोदी के कथित तानाशाही रवैये के खिलाफ  महारैली कर अपनी ताकत का ज़बरदस्त प्रदर्शन किया।

Screenshot_20240331_191442_Facebook

सभी नेताओ ने एक स्वर से वहां  मौजूद लोगों से लोकतान्त्रिक व्यवस्था को कायम रखने का अहवाहन किया गया। इस महारैली में कांग्रेस के नेता राहुल गांधी, सोनिया गांधी, अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खडगे, केजरीवाल की पत्नि सुनीता केजरीवाल, फारूख अब्दुल्लाह, महबूबा मुफ्ती,लालू पुत्र तेजस्वी यादव,उद्धव ठाकरे,अखिलेश यादव,सीताराम येचुरी,पंजाब सीएम भगवंत मान,डेरेक ओ ब्रायन, चंपई सोरेन, समेत अन्य विपक्षी नेता भी मौजूद थे।

 

IMG-20240331-WA0060

सभी विपक्षी नेताओ ने एक स्वर से लोगों को मोदी की तानाशाही को उखाड फेकने का अहवाहन किया। राम लीला मैदान के बडे मंच से केजरीवाल की पत्नि सुनीता केजरीवाल  ने पहली बार अपने संबोधन  में पार्टी के कार्यकर्ताओ में अपनी उपस्थिति का अहसास करा दिया। रविवार अल सुबह से ही आम आदमी पार्टी के हजारों पदाधिकारी ,कार्यकर्ता ,विधायक, पार्षदों ने  बसों में भरकर रामलीला मैदान का रूख कर दिया था।

Screenshot_20240331_155350_YouTube बसों में कार्यकर्ताओ के द्वारा भगत सिंह का गीत मेरा रंग दे बसंती चोला के तराने गाते हुए जोश भरे नारे लगा रहे थे। जेल के ताले टूटेगें,केजरीवाल छूटेगें, हम चट्टानों से टकराने आए हैं,हम देश बचाने आए हैं। हम निकल पडे हैं अपने सच्चे और इमानदार नेता अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ हुंकार भरने।अब आएगी ऐसी आंधी जो तानाशाह को हिला कर रख देगी। रैली में सुनीता केजरीवाल के संबोधन से एक बात तो तय हो गई है कि केजरीवाल की अनुपस्थित में सुनीता केजरीवाल ने मोर्चा संभाल लिया है। वह आने वाले वक्त में दिल्ली की सीएम की गद्दी को संभालने जा रही है। 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

साहित्य ज्योतिष