एबीवीपी ने फूंका पश्चिम बंगाल की सीएम ममता का पुतला 

नारेबाजी कर जताया आक्रोश, कहा अपराधी को संरक्षण देने वाली सरकार को जनता सिखाती हैं सबक 

एबीवीपी ने फूंका पश्चिम बंगाल की सीएम ममता का पुतला 

स्वतंत्र प्रभात 
मीरजापुर। पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में महिलाओं के उत्पीडन और गुंडागर्दी के खिलाफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने घंटाघर चौराहे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पुतले का दहन किया। कहा कि माँ, माटी और मानुष के नाम पर सत्तासीन सीएम ने कुर्सी के लोभ में आँख मूंद लिया है। महिला होकर भी महिलाओं का शोषण करने वालों के साथ खड़ी नजर आ रही हैं। दोषी के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय दुसरों पर ही आरोप लगा रही हैं। न्याय का गला घोटने का प्रयास किया जा रहा है। इसकी जितनी निंदा किया जाय वह कम हैं। प्रदर्शनकारियों ने ममता बनर्जी और टीएमसी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर अपने आक्रोश का इजहार किया। 
 
विभाग संयोजक श्रेयांश सिंह ने कहा कि संदेश खाली में उत्पीड़न का खेल दिन, महीना नहीं करीब एक दशक से चल रहा था। न्याय व कानून को दरकिनार कर अधर्मी को सत्ता से संरक्षण दिया जाता रहा । जिसके बल पर महिलाओं का शोषण कर अधर्मी दूसरों को जमीन पर कब्जा करता रहा। यह सरकार के लिए सामान्य बात रही। जबकि जनता आह भरती रही। जिम्मेदार लोगोँ ने आँखे बंद कर लिया। सत्तासीन पश्चिम बंगाल की सरकार ने कार्रवाई करने के बजाय महिलाओं से मिलने जा रहे लोगों को ही रोक लिया।
 
इतना ही नहीं क्षेत्र में धारा 144 लागू कर लोगों को डराने का काम किया गया। कहा कि सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं । अगर सरकार अपराधी को सजा नहीं देती तो जनता सरकार को सबक सिखाती है। नगर मंत्री दिव्यांश अवस्थी ने कहा कि माँ, माटी और मानुष के नाम पर सत्ता में बैठी ममता बनर्जी ने आरोपी को संरक्षण देकर घटिया मानसिकता का परिचय दिया है। कहा कि नारी का अपमान करने वाले को कोई कितना भी संरक्षण दे दे , लेकिन प्रकृति इसे बर्दाश्त नहीं करेगी । 
 
प्रदर्शन के दौरान श्रेयश पांडेय, प्रांशु साहू, राहुल तिवारी, स्नेहिल वर्मा, प्रशांत गुप्ता, अंकित कसेरा, अभय गुप्ता, निखिल गुप्ता, उज्ज्वल मोदनवाल, अमृतांश दुबे, सुदर्शन अग्रवाल, संदीप प्रजापति एवं सचिन यादव आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel