सरकार के इस निर्णय से 3हजार लोग हुये बेरोजगार, किया प्रदर्शन

 माध्यमिक शिक्षा विद्यालय में तैनात प्रदेश भर के 3000 एडहॉक शिक्षकों की सेवा सरकार ने की समाप्त

सरकार के इस निर्णय से 3हजार लोग हुये बेरोजगार, किया प्रदर्शन

मुख्यमंत्री आवास गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर लगाई इंसाफ की  गुहार

स्वतंत्र प्रभात 
बस्ती l  बस्ती जिले में माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा सरकार के एक आदेश ने प्रदेश के विभिन्न जिलों में माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित विद्यालयों के तकरीबन 3000 एडहॉक शिक्षकों को बेरोजगार कर दिया है। प्रदेश के अलग अलग जिलों से दर्जनों शिक्षको ने गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर गुहार लगाई है और कहा है कि सरकार हमे फिर से बहाल करे। सरकार के इस फैसले के बाद सेवा मुक्त किए गए अध्यापकों के परिवार से जुड़े हुए तकरीबन 10 हजार लोग भुखमरी के कगार पर आ चुके हैं। आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निवास स्थान व उनके कैंप ऑफिस गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए हुए अधिक अध्यापकों ने अपनी सेवा बहाली की गुहार लगाई है।
 
सन 1993 से माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित सरकारी एडेड विद्यालयों में एडहॉक शिक्षकों की भर्ती की गई। यह भर्ती 2016 तक चलती रही। 9 नवंबर 2023 को सरकार ने अचानक एक आदेश पारित किया जिसमें कहा गया कि अब एडहॉक टीचरों की सेवा समाप्त की जाती है। इस आदेश के आने के बाद तकरीबन प्रदेश भर के 3000 एडहॉक टीचर सेवामुक्त हो गए और इनसे जुड़े हुए उनके परिवार के तकरीबन 10 हजार लोग भी बेरोजगार हो गए और भुखमरी के कगार पर आ चुके हैं। इनमें ज्यादातर टीचरों की उम्र 50 साल से ज्यादा है।
 
उम्र के इस पड़ाव पर अब एक बार फिर यह बेरोजगार है और अपनी रोजी-रोटी की तलाश में दर-दर भट्ठक रहे हैं। तमाम उम्मीदों के साथ आज दर्जन भर से ज्यादा सेवामुक्त एडहॉक टीचर अपनी गुहार लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखनाथ मंदिर पहुंचे। पूजा अर्चना भी की भगवान से उम्मीद के साथ मुख्यमंत्री से भी पूरी तरीके से उम्मीदें लगाए बैठे हैं कि शायद मुख्यमंत्री के दिल में नरमीआ जाए और एक बार फिर इन्हें इनकी कोई हुई पद वापस मिल जाए।
 
मंदिर में अपनी अर्जी लगाकर लौटे अध्यापकों ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक बहुत ही नरम दिल के इंसान है साथ ही प्रदेश में रामराज चल रहा है। इस रामराज में कोई भी बेरोजगार और भीखा नहीं रह सकता। इनको इस बात की पूरी उम्मीद है। जहां एक तरफ सरकार के आदेश पर यह बेरोजगार हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति उनकी आस्था बरकरार है।
 
यह सभी सेवामुक्त एडहॉक टीचर बड़े फक्र के साथ बताते हैं कि यह सभी लोग भारतीय जनता पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता भी हैं। इन्हें पूरी उम्मीद है कि खुद उनकी सरकार में उनके साथ इंसाफ जरूर होगा। बहरहाल अब आने वाला वक्त ही बताया की उम्र के इस पड़ाव में क्या यह बेरोजगार रहते हैं या एक बार फिर सरकार इन्हें रोजगार की तरफ ले जाती है।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel