अवैध खनन को रोक लगाने में स्थानीय पुलिस प्रशासन जरवा विफल

अवैध खनन को रोकने के दावे हुए फेल,तस्वीरे बता रही सच

अवैध खनन को रोक लगाने में स्थानीय पुलिस प्रशासन जरवा विफल

अवैध खनन पर अंकुश लगाने को लेकर जिलाधिकारी बलरामपुर के आदेशों की उड़ाई जा रही धज्जिया

विशेष संवाददाता मसूद अनवार की रिपोर्ट 

थाना कोतवाली क्षेत्र जरवा के कवही नाले में हो रहे अवैध खनन की तस्वीर वायरल

अवैध खनन पर सरकार के निर्देशो की बात करें तो अवैध खनन पर पूरी तरह अंकुश लगाया जा चुका और नालो से अवैध खनन के काले कारोबार पर पूर्णतयः लगाम लगाने का दावा किया जा रहा । इसके संबंध में शासन के द्वारा लगातार संबंधित विभागीय अधिकारियों को इस बाबत आदेश का पालन करना आवश्यक बताया गया है।IMG-20231123-WA0002 कि अपने इलाकों में अवैध खनन व खनन माफियाओं पर अंकुश लगाए जिससे पर्यावरण परिवर्तन और पर्यावरण में होने वाले नुकसान और क्षति को रोका जा सके और पर्यावरण के लगातार बदलते स्वरूप को रोका जा सके जिसको इनकार नहीं किया जा सकता ।इसी क्रम में बात करते हैं जनपद बलरामपुर में अवैध खनन को लेकर जिलाधिकारी अरविंद कुमार के निर्देशो की जिसमे साफ तौर पर संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि जनपद में अवैध खनन पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाया जाए और अवैध खनन में संलिप्ता पर विधिक कार्यवाही की जायIMG-20231123-WA0004। जिसको लेकर चार सदस्य टीम भी गठित की जा चुकी है की बात सामने आ रही है। वही कार्यवाही का सिलसिला भी होते देखा गया है जिसमे कई थाना क्षेत्र में खनन को लेकर अभियान चलाया गया और कार्यवाही हुई लेकिन अवैध खनन माफियाओं पर इसका भय देखने को नहीं मिल रहा है। वही जिला प्रशासन के अवैध खनन पर अंकुश के दावे फेल नजर आ रहे। जिसकी तस्वीर थाना कोतवाली जरवा क्षेत्र के कवही नाले पर देखने को मिली है जहां पर दर्जनों की संख्या में स्थानीय खनन माफिया द्वारा बोरों में अवैध खनन का कार्य करवा कर उससे अपने प्लाट पर डम्प करते है ।जिनकी तस्वीर पहाड़ी नाले पर बालू भरते हुए और बालू एकत्रित करने की तस्वीरों से अंदाजा लगा सकते है कि खनन माफिया सक्रिय है पर उनका स्वरूप बदला है IMG-20231123-WA0003।इनके माध्यम से माफिया अपनी प्लाटों पर इस बालू को इकट्ठा करते हैं और ट्रालियों के माध्यम से बाजार में बेखौफ बेचा जाता है जिसमे बहुतों के पास परमिट का झोल होता है जिसकी आड़ में बेखौफ खनन का माल बिकता है। सूत्रों की माने तो स्थानीय प्रशासन के मौन स्वीकृति की बात भी सामने आ रही है जिससे इनकार नही किया जा सकता है जबकि अवैध खनन बालू और मिट्टी दोनों पर अंकुश लगाने का निर्देश का पालन करवाने की बात की गई है। लेकिन अवैध खनन पर अंकुश लगता नही दिख रहा और जिलाधिकारी बलरामपुर के सारे दावे फेल नजर आ रहे। क्षेत्र में हो रहे अवैध खनन पर संबंधित थाना क्षेत्र के जिम्मेदारों के बिना संरक्षण से ऐसा सम्भव नही हो सकता ।

जबकि स्थानीय प्रशासनिक जिम्मेदारो का यही दावा कितना सच है कि हमारे क्षेत्र में अवैध खनन पूरी तरह बंद है वह झूठ साबित हो रहा। जो तस्वीर दिख रही वह झूठ का परदाफाश के लिए पर्याप्त है।

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel