कोरोना सुरक्षाचक्र को भेदकर दूसरे जिंदगी जोखिम में डाल रहे लोग

ali
स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए खूब कवायदें कर रहा है।

81 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव


अलीगढ़।

जिले में जांच के बाद रोजाना काफी संख्या में नए संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए खूब कवायदें कर रहा है। रोजाना मैराथन मीङ्क्षटग हो रही हैं। पीसीआर, ट्रू नेट, एंटीजन किट आदि विधि से ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच की जा रही है। जिन मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है, उनमें तमाम मरीजों के पास कई-कई दिनों तक स्वास्थ्य विभाग की ओर से संपर्क ही नहीं किया जाता।

डीएम तक शिकायतें पहुंच रही हैं। संक्रमित मरीजों को तत्काल अस्पताल या जरूरी दिशा-निर्देशन के साथ होम आइसोलेशन में रखना चाहिए। ऐसा न होने से पूरा परिवार खतरे में है। ऐसे कई मरीजों के दुकान चलाने या घर से बाहर घूमने के मामले भी सामने आ रहे हैं। कई मरीजों की ओर से विभाग को सूचित किए जाने के बावजूद कोई तत्परता नहीं दिखाई जाती। संक्रमण बढने की एक वजह ये भी हो सकती है। ऐसे में विभाग को अपनी कार्यशैली व व्यवस्था में बदलाव करना चाहिए।


कोरोना वायरस से भले ही पूरी दुनिया डरी हुई हो, मगर लोग सुरक्षाचक्र को भेदकर अपनी ही नहीं, दूसरे लोगों की जिंदगी भी जोखिम में डाल रहे हैं। सोमवार को भी 81 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। इसमें दो सैलून संचालक, दुकानदार, पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

43 मरीजों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया। सक्रिय मरीजों की संख्या 556 हो गई है। 27 की मृत्यु व अब तक 2097 संक्रमित हो गए हैं।संक्रमित मरीजों को तत्काल अस्पताल या जरूरी दिशा-निर्देशन के साथ होम आइसोलेशन में रखना चाहिए। ऐसा न होने से पूरा परिवार खतरे में है। ऐसे कई मरीजों के दुकान चलाने या घर से बाहर घूमने के मामले भी सामने आ रहे हैं। कई मरीजों की ओर से विभाग को सूचित किए जाने के बावजूद कोई तत्परता नहीं दिखाई जाती। संक्रमण बढने की एक वजह ये भी हो सकती है।