शादी में न जाने के चलते चाचा ने काटी हथेली का नश-

शादी में न जाने के चलते चाचा ने काटी हथेली का नश-

शादी-में-न-जाने-के-चलते-चाचा-ने-काटी-हथेली-का-नश-



 मीरजापुर-

जिले के अहरौरा थाना क्षेत्र में सोमवार को भतीजे की शादी में बारात में लॉकडाउन के नियमों के तहत सीमित संख्या की बाध्यता के कारण बारात में न जाने पर चाचा ने खुद को चाकू से हाथ का नश काटकर लहूलुहान कर लिया।

एक तरफ भतीजे की बारात निकलने की तैयारी हो रही थी दूसरी तरफ चाचा लहूलुहान पड़े थे। चाचा की दशा देखकर भतीजे ने बारात लेकर जाने से मना कर दिया, काफी मान-मनौव्वल के बाद वह बारात को लेकर विदा हुआ।

चाचा का इलाज चल रहा है मीरजापुर जिले अहरौरा थानाक्षेत्र के अहरौराडीह में अपने भतीजे के बारात में न जाने पर चाचा इस कदर नाराज हो गए कि धारदार हथियार को अपने हाथ पर मारकर खुद को लहूलुहान कर लिया।

चाचा के लहूलुहान होने पर शादी का सारा उत्साह कुछ समय के लिए ठंडा पड़ गया। चाचा की दशा देख दूल्‍हा बने ओमप्रकाश भी शादी के लिए जाने को तैयार ही नहीं हो रहे थे।

लेकिन परिजनों ने किसी तरह से समझा-बुझा कर विवाह के लिए भेजा।तय हुआ क‍ि पांच लोग ही बराती होंगेहुआ यह कि जिले के अहरौराडीह के ओमप्रकाश की बारात चंदौली जिले के लिए जाने की तैयारी कर रही थ। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के चलते वर और कन्या पक्ष के लोगों ने तय किया कि पांच लोग ही बतौर बराती जाएंगे।

इसी शर्त पर बारात निकलने की सोमवार को दोपहर में तैयारी चल रही थी।चाचा समधी बनकर जाने की जिद करने लगेइसी बीच कहीं से दुल्हे राजा के चाचा समधी बनकर जाने की जिद करने लगे।

जब परिजनों ने लॉकडाउन के चलते पांच लोगों के ही जाने की बात उनको बताई तो बुरा मान गए। यह बात उनको इतनी बुरी लगी कि धारदार हथियार से अपना हाथ काट लिया। परिजनों ने निजी चिकित्सक के यहां उपचार कराया। चाचा इस वक्त घर पर स्वास्‍थ्‍य लाभ ले रहे हैं।