शिक्षक भर्ती की लेटलतीफी पर फूटा अभ्यर्थियों का गुस्सा

शिक्षक भर्ती की लेटलतीफी पर फूटा अभ्यर्थियों का गुस्सा

- कलेक्ट्रेट परिसर में किया जोरदार प्रदर्शन


- सिटी मजिस्ट्रेट के समझाने पर शांत हुए प्रदर्शनकारी

बांदा। 

बेसिक शिक्षा विभाग में 97 हजार शिक्षकों की भर्ती की मांग को लेकर बीटीसी, बीएड प्रशिक्षु और शिक्षामित्रों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर हंगामा किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध-प्रदर्शन किया। पूरा कलक्ट्रेट परिसर सरकार विरोधी नारों से गूंज उठा। हंगामा बढ़ने पर मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट ने काफी प्रयास के बाद अभ्यर्थियों को शांत कराया। बाद में अभ्यर्थियों ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा। बेरोजगारों ने चेतावनी दी है कि सरकार शिक्षकों की भर्ती के लिए विज्ञापन जारी करे। बेरोजगारों को चुनावी लॉलीपॉप न दिखाए।

छात्र नेता सनी पटेल की अगुवाई में शुक्रवार को बेसिक शिक्षा विभाग में 97 हजार शिक्षकों की भर्ती की मांग को लेकर अभ्यर्थियों का जत्था बारिश और कड़ाके की ठंड में जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करता हुआ कलक्ट्रेट पहुंचा। यहां अभ्यर्थियों ने सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए जमकर हंगामा किया। नारेबाजी और हंगामा से कुछ देर के लिए कलक्ट्रेट में गर्माहट पैदा हो गई। हंगामा बढ़ने पर सिटी मजिस्ट्रेट केशवनाथ गुप्ता मौके पर पहुंचे गए और अभ्यर्थियों को शांत कराने का प्रयास किया। लेकिन अभ्यर्थी जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपने पर अड़ गए। सिटी मजिस्ट्रेट ने अभ्यर्थियों को समझाया कि यह मामला जिला का नहीं बल्कि शासन स्तर का मामला है। 

भरोसा दिलाया कि मांगों का ज्ञापन प्रशासन के माध्यम से शासन को भेज दिया जाएगा। उनके समझाने पर अभ्यर्थी ज्ञापन देने को तैयार हो गए। नारेबाजी के बीच बेरोजगारों ने मुख्यमंत्री तो संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। इसमें बेसिक शिक्षा विभाग में 97 हजार खाली पदों पर भर्ती प्रक्रिया जल्द शुरू कराने की मांग की। चेतावनी दी कि अगर सरकार ने शिक्षक भर्ती का विज्ञापन जारी नहीं किया तो इसके गंभीर परिणाम होंगे। इस मांग को लेकर पिछले 33 दिनों से सर्द मौसम के बीच अभ्यर्थी लखनऊ में अनशनरत हैं। लेकिन सरकार मांगों को नहीं सुन रही। प्रदर्शनकारी अभ्यर्थियों पर लाठियां बरसाई जाती हैं। अब अभ्यर्थी आर-पार लड़ाई को तैयार हैं। जब तक 97000 शिक्षकों की भर्ती का विज्ञापन जारी नहीं हो जाता तब तक अभ्यर्थी शांत नहीं बैठेंगे। इस मौके पर प्रशिक्षु मोर्चा के अध्यक्ष जगभान यादव, उत्कर्ष पटेल, धर्मेंद्र यादव, राम दुलारे, गौस मोहम्मद माता प्रसाद, रामनरेश, अभिषेक भूपेंद्र, सनी पटेल आदि सैकड़ों छात्र मौजूद रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट। राज्य उचित प्रक्रिया के बिना संपत्ति का अधिग्रहण नहीं कर सकता ।संपत्ति का अधिकार एक संवैधानिक अधिकार है। -सुप्रीम कोर्ट।
        स्वतंत्र प्रभात ब्यूरो।     सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को निजी संपत्ति को "सार्वजनिक उद्देश्य" के लिए राज्य के मनमाने अधिग्रहण

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel