उपयोगी है गांधी जी की शिक्षा पद्धति’ – आशुकवि जटायु

उपयोगी है गांधी जी की शिक्षा पद्धति’ – आशुकवि जटायु

‘कादीपुर (सुलतानपुर )संत तुलसीदास पीजी कॉलेज में शिक्षा संकाय द्वारा “गांधी की नई तालीम की वर्तमान उपादेयता” विषय पर शैक्षणिक संगोष्ठी हुई। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए भूगोल विभागाध्यक्ष डॉ इन्दुशेखर उपाध्याय ने पर्यावरणीय शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डाला । उन्होंने कहा कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए पर्यावरणीय शिक्षा व पर्यावरण के प्रति

‘कादीपुर (सुलतानपुर )संत तुलसीदास पीजी कॉलेज में शिक्षा संकाय द्वारा “गांधी की नई तालीम की वर्तमान उपादेयता” विषय पर शैक्षणिक संगोष्ठी  हुई। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए भूगोल विभागाध्यक्ष डॉ इन्दुशेखर उपाध्याय ने पर्यावरणीय शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डाला । उन्होंने कहा कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए पर्यावरणीय शिक्षा व पर्यावरण के प्रति जागरूकता की महती आवश्यकता है। संगोष्ठी के विशिष्ट अतिथि आशुकवि मथुरा प्रसाद सिंह जटायु ने कहा कि ‘ गांधी जी द्वारा बताई गई शिक्षा पद्धति बहुत उपयोगी है । पूंजीवादी साजिश के तहत उसे किनारे लगा दिया गया है । उन्होंने  “लघु” एवं “गुरू” शब्द की व्याख्या की । पूर्व संस्कृत विभागाध्यक्ष डॉ सुशील कुमार पाण्डेय साहित्येन्दु ने अभिमन्यु की शिक्षा व गांधी दर्शन पर प्रकाश डाला।प्राचार्य डॉ.जितेन्द्र कुमार तिवारी ने अतिथियों को अंगवस्त्र व पुष्प गुच्छ देकर  सम्मानित किया ।संयोजक डॉ.संतोष कुमार पाण्डेय ने आगंतुकों का स्वागत व सह संयोजक डॉ अशोक कुमार पाण्डेय ने आभार ज्ञापन किया । संगोष्ठी का संचालन डॉ श्याम बिहारी मिश्र ने किया । इस अवसर पर डॉ मदनमोहन सिंह, डॉ जितेन्द्र कुमार उपाध्याय, डॉ संजीव रतन गुप्ता ,डॉ संजय सिंह ,डॉ समीर पाण्डेय, डॉ अनिल पाण्डेय ,डॉ विजय नारायण तिवारी, डॉ अयोध्या प्रसाद मिश्रा व डॉ सुरेन्द्र प्रताप तिवारी सहित महाविद्यालय के सभी शिक्षक उपस्थित रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती? सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से पूछा कि कुल पड़े वोटों की जानकारी 48 घंटे के भीतर वेबसाइट पर क्यों नहीं डाली जा सकती?
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को उस याचिका पर जवाब दाखिल करने के लिये एक सप्ताह का समय...

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel