भारत-चीन सीमा को लेकर अमेरिका की पैनी नजर

भारत-चीन सीमा को लेकर अमेरिका की पैनी नजर

स्वतंत्र प्रभात।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रधान उप प्रवक्ता वेदांत पटेल ने कहा, "हम भारत और चीन सीमा पर संघर्षों के संबंध में स्थिति पर लगातार कड़ी निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद के संबंध में स्थिति पर पैनी नजर बनाए हुए है। हमें यह सुनकर खुशी हुई है कि दोनों देश पिछले साल दिसंबर में पीछे हट गए हैं।

पटेल ने नियमित रूप से मीडिया ब्रीफिंग में पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि भारत और चीन के पीछे हट जाने के कारण अमेरिका राहत महसूस कर रहा है। पटेल ने  भारत को कई जगहों पर अमेरिका का एक महत्वपूर्ण सहयोगी बताया। उन्होंने कहा कि व्यापार सहयोग, सुरक्षा सहयोग और तकनीकी सहयोग सहित कई क्षेत्रों में भारत अमेरिका का एक प्रमुख साझेदार रहा है। मालूम हो कि साल 2020 से लगातार दोनों देशों के बीच सीमा संघर्ष प्रमुख मुद्दा बना हुआ है।

 

अप्रैल 2020 के बाद भारत और चीन सीमा मामले में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) की स्थिति पर राजनयिक और सैन्य समेत कई स्तर की वार्ता हुई है। अमेरिकी विदेश विभाग के प्रधान उप प्रवक्ता वेदांत पटेल ने यूक्रेन पर रूसी हमले की निंदा की और घायल हुए सभी लोगों के प्रति सहानुभूति जताई। उन्होंने कहा कि रूस ने यूक्रेन पर कल रात मिसाइलें दागीं है। अमेरिका की ओर से मैं उन सभी लोगों के प्रति सहानुभूति और पूरे यूक्रेन में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करना चाहता हूं।

 

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel

राज्य

बगीचे में लटकता मिला युवक का शव, पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम को भेजा
प्रतिबंधित थर्माकोल प्लेट से भारी पिकअप प्रवर्तन दल ने पकड़ा
गोमती नदी में नहाते वक्त दो किशोर डूबे, हुई मौत पुलिस ने शव को बरामद कर परिजनों को सौंपा 
राज्य में पड़ रहे भीषण गर्मी को देखते हुए झारखंड में 15 जून तक सभी स्कूल रहेंगे बंद, आदेश जारी
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन  ने राज्य में विधि- व्यवस्था  और अपराध -उग्रवाद नियंत्रण को लेकर वरीय  पदाधिकारियों की उपस्थिति में जिलों के उपायुक्त एवं वरीय पुलिस अधीक्षक/ पुलिस अधीक्षक के साथ की उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक, दिए कई अहम निर्देश

साहित्य ज्योतिष

संजीव-नी।
संजीव-नीl
संजीव-नी।
संजीव-नी।
संजीवनी।