जमीयत उलेमा ए लहरपुर की एक बैठक हाफिज अब्दुल अजीम व मुफ्ती अब्दुल रहमान की अध्यक्षता में हुई संपन्न

जमीयत उलेमा ए लहरपुर की एक बैठक हाफिज अब्दुल अजीम व मुफ्ती अब्दुल रहमान की अध्यक्षता में हुई संपन्न

जमीयत उलेमा इस देश के लोकतंत्र और राष्ट्र की संरक्षक पार्टी है.


जमीयत उलेमा-ए-लहरपुर निर्वाचन क्षेत्र संख्या 4 की अध्यक्षता में हाफिज अब्दुल अजीम और मुफ्ती अब्दुल रहमान मजाहेरी की अध्यक्षता में एक महत्वपूर्ण बैठक हुई. उन्होंने कहा कि जमीयत उलेमा इस देश के लोकतंत्र और राष्ट्र की संरक्षक पार्टी है. इस देश के निर्माण में हर विस्तार में मुसलमानों का खून शामिल है।जमीयत ने देश की धर्मनिरपेक्षता को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। देश के धर्मनिरपेक्ष ढांचे को आकार देने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। यह देश के विभाजन से पहले और बाद में मुसलमानों की गरिमा और सम्मान की गारंटी रही है।

जब मुसलमान और शोषितों को सलाखों के पीछे डाला जाता है, जमीयत सच्चाई की आवाज बनती है और अदालत में न्याय की आवाज उठाती है।जमीयत हमारी बुज़ुर्ग है कसार माया, हमारे देश के नेता कहते हैं कि भारत के बंटवारे के बाद हमारे वंशजों की अंत्येष्टि पढ़ी गई और छोड़ दी गई, हम इस देश में हर लिहाज से जीरो माइनस में चले गए कि आज हम हर मोर्चे पर खड़े हैं

जमीयत उलेमा ए लहरपुर की एक बैठक हाफिज अब्दुल अजीम व मुफ्ती अब्दुल रहमान की अध्यक्षता में हुई संपन्न

इस देश के हर नागरिक की तरह गरिमा के साथ हर इंसाफ के लिए खड़े होने का नाम है जमीयत। अल्लाह ने इस धरती पर दो मुसलमानों को जमात दिया है। ये दो आंखें हैं जो मुसलमानों की राष्ट्रीय और सभ्य गरिमा को बनाए रखती हैं और ऊपरवाला भी स्थापित करती हैं।मौलाना अतहर अफगानी ने कहा कि मतदान प्रक्रिया में कोई ढील नहीं होनी चाहिए। नए वोट और नाम दर्ज किए जाने चाहिए।

मौलाना एजाज नदवी ने बैठक का निर्देशन किया। इस मौके पर वसीम बेग, जेड0 आर0 रहमानी एहराज खान, हाफिज दिलशाद अली, खान मोहम्मद आकिब मोहम्मद,अजमत अली, हाफिज शाह नवाज, शमशाद बेग, हाफिज आसिफ, मौलाना अंजार कासमी, हाफिज हकीक, हाफिज वजीहुल हसन, हाफिज मुजीब, हाफिज नासिर,  नूर आलम, मौलाना फारूक, मौलाना नसरुल्ला, मौलाना फारूक और अन्य ने लोग मौजूद रहे।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel