आखिर कब कब्जा मुक्त होंगे खुटार के तालाब

आखिर कब कब्जा मुक्त होंगे खुटार के तालाब

आखिर कब कब्जा मुक्त होंगे खुटार के तालाब


खुटार क्षेत्र में तालाबों पर बना दिए गए पीएम आवास

टाइगर रिजर्व क्षेत्र की भूमि पर अवैध कब्जा कर उगाई जा रही है फसलें।

शाहजहांपुर।


 भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश की योगी सरकार ने जनपदों में गांव से लेकर शहर तक तालाबों को संरक्षित करने के लिए जनपद के जिम्मेदार अफसरों को सख्त निर्देश दिए गए किंतु जिम्मेदार अधिकारी अपने प्रदेश के मुखिया की निर्देशों का पालन न करके धज्जियां उड़ाने में लगे हुए हैं जानकारी के अनुसार आदर्श नगर पंचायत खुटार में लगभग एक दर्जन मोहल्लों में प्राचीन तालाब बने हुए थे जो धीरे-धीरे नागरिकों द्वारा अवैध अतिक्रमण कर प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत अपने भवनों का निर्माण नहीं तालाबों पर करा दिए गए । 

नगर पंचायत खुटार मैं नकाशा बाजार के निकट पश्चिमी गढ़ी पूर्वी गढ़ी राय टोला देवी स्थान मोहल्ला कोट गांधीनगर पटवा वार्ड नारायणपुर विक्रम इंदिरा नगर आदि मोहल्ले में प्राचीन तालाब बने हुए जो राजस्व विभाग के अभिलेखों में दर्ज हैं लगभग दो दर्जन तालाबों की स्थिति की स्थली जांच की जाए तो अधिकांश तालाबों का विभागीय लापरवाही के चलते प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवासों का निर्माण करा दिया गया। 

इन आवासों पर निर्माण करा रहे लाभार्थियों के विरुद्ध नगर प्रशासन से लेकर तहसील प्रशासन एवं जिला प्रशासन ने भी कोई भी कार्यवाही नहीं की है विभागीय लापरवाही के चलते हैं आगे आने वाले समय में नगर में पानी निकासी की समस्या उत्पन्न होने वाली है इस समस्या को जन्म देने वाले जिम्मेदार अधिकारी हैं इतना ही नहीं नगर के अंदर तालाबों का इस्तरी निरीक्षण किया जाए तो कई जगह अवैध रूप से कब्जे भी मिलेंगे। नागरिकों ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि तत्काल तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराया जाए जिससे आगे आने वाले समय में पानी की निकासी के लिए कोई दिक्कत ना हो सके।

भविष्य में नगर खुटार में पानी निकासी की हो सकती है समस्या।

आदर्श नगर पंचायत खुटार के विभिन्न मोहल्लों में प्राचीन तालाबों का जिम्मेदार अधिकारियों के सहयोग से प्रधानमंत्री आवास योजना का निर्माण तो करा दिया गया नगर के अंदर आबादी में बने अपनों से निकलने वाले गंदे पानी की निकासी इन्हीं तालाबों में एकत्र होकर नगर के बाहर अभी तक जा रहा था किंतु तालाबों पर अवैध रूप से कब्जा एवं भवन निर्माण कराए जाने के कारण घरों से निकलने वाले गंदे पानी कि आगे आने वाले समय में संकट उत्पन्न होने वाला है।


खुटार बन क्षेत्र टाइगर रिजर्व घोषित होने के बावजूद वन विभाग की भूमि पर अवैध कब्जे

खुटार क्षेत्र के निकट सघन वन क्षेत्र है इस वन क्षेत्र में विभिन्न प्रजाति के वृक्ष पाए जाते हैं वन अधिकारियों की लापरवाही के चलते हैं वन विभाग की सैकड़ों एकड़ भूमि पर खुलेआम कब्जा कर कृषि कार्य किया जा रहा है

 आज तक किसी विभागीय अधिकारी द्वारा वन विभाग की भूमि की ना तो नाप कराई गई और ना ही वन क्षेत्र के निकट बने फार्मरों की भूमि की स्थली जांच की गई इस वन विभाग की भूमि पर अवैध कब्जे कराने में संबंधित विभाग की कर्मचारियों की शह होने की वजह से दिन प्रतिदिन वन क्षेत्र सिकुड़ता जा रहा है। 

खुटार वन क्षेत्र मैलानी पलिया दुधवा तक सघन वन क्षेत्र है वनों का अवैध कटान किए जाने के कारण इन दिनों में रह रहे विभिन्न प्रकार के जंगली जानवरों का जीवन भी खतरे में पड़ा हुआ है वर्तमान में जंगली जानवर जंगलों में आश्रय ना लेकर निकट बने खेतों में खड़ी फसलों में घुसकर अपना जीवन सुरक्षित कर अपना आशियाना बना रखा है टाइगर रिजर्व क्षेत्र घोषित होने के बावजूद भी दिन प्रतिदिन अवैध कटान की शिकायतें समाचार पत्रों में फेसबुक व्हाट्सएप पर देखी जा रही हैं।

मुख्यमंत्री के आदेशों का नहीं हो रहा है पालन, शिकायत मिलने पर ही होती है कार्रवाई।

खुटार क्षेत्र केतालाबों को सुरक्षित एवं कब्जा मुक्त कराने के लिए भले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद के आला अधिकारियों को निर्देश दे रखे हैं किंतु जिम्मेदार अधिकारी तालाबों की शिकायत करने का इंतजार कर रहे हैं 

यदि कोई शिकायत करेगा तभी तालाब कब्जा मुक्त कराए जा सकेंगे राजस्व विभाग में कार्यरत कर्मचारियों को अच्छी तरह से पता है कि उनके क्षेत्र में कितने तालाब हैं कितने तालाबों पर कब्जा हो चुका है सारी जानकारी होने के बावजूद अधिकारी किसी शिकायत का इंतजार कर रहे हैं आखिर कब शुरू होगा खुटार क्षेत्र के तालाबों का कबजा मुक्त !
 

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

आपका शहर

अंतर्राष्ट्रीय

Online Channel