प्रधान वैज्ञानिक ने कृषि विश्वविद्यालय के आलू शोध परिक्षेत्र का किया निरीक्षण 

प्रधान वैज्ञानिक ने कृषि विश्वविद्यालय के आलू शोध परिक्षेत्र का किया निरीक्षण 

स्वतंत्र प्रभात


मिल्कीपुर,अयोध्या।केंद्रीय आलू शोध संस्थान शिमला के प्रधान वैज्ञानिक डॉ विनोद कुमार, एवं सी0एस 0ए0 कानपुर के वैज्ञानिक एवं आलू विशेषज्ञ डॉ अजय कुमार यादव ,डॉ राम प्यारे की टीम ने कृषि विश्वविद्यालय कुमारगंज के आलू प्रक्षेत्र का भ्रमण कर कृषि  वैज्ञानिकों एवं शोध छात्रों को फसल के संबंध में आवश्यक सुझाव दें।


 आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज के सब्जी विज्ञान विभाग के प्रक्षेत्र पर संचालित अखिल भारतीय समान्वित आलू सुधार अनुसंधान परियोजना के शोध परिक्षणों पर उपरोक्त वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने पहुंचकर परिक्षेत्रों को देखकर प्रशंसा व्यक्त की तथा आलू के पौधों की खुदाई कराकर आलू का आकार एवं प्रति पौधे से प्राप्त आलू की मात्रा देखने के बाद वैज्ञानिकों की प्रशंसा की।


कृषि विश्वविद्यालय के सब्जी विज्ञान प्रक्षेत्रों में कृषि विश्वविद्यालय के आलू शोध के छात्र अजय कुमार बहेलिया, धर्मेंद्र कुमार, संदीप कुमार पाल, एवं महिला शोध छात्र मोनिका सिंह, अनुपमा सिंह के द्वारा आलू के 75 प्रजातियों पर शोध परीक्षण किया जा रहा है। केंद्रीय आलू शोध संस्थान शिमला के प्रधान वैज्ञानिक डॉ विनोद कुमार शोध छात्र- छात्राओं से कहा कि आलू की गुणवत्ता बढ़ाने की अत्यंत आवश्यक है। वैज्ञानिकों ने इतना ही नहीं शोध छात्रों से कहा कि आप ऐसी आलू की प्रजाति का चुनाव करें जिसकी अच्छी गुणवत्ता हो और बाजारों में आसानी से बिक्री की जा सके। कभी-कभी देखने को मिलता है कि किसानों के खेतों में आलू फट जाता है उसका भी रोकथाम करना बहुत जरूरी है, ताकि किसान आलू की अच्छी उपज ले सके और बाजारों में आसानी से बिक्री कर सकें।


इस मौके पर परियोजना के मुख्य अन्वेषक डॉ सीएन राम सब्जी विज्ञान विभाग, अधिष्ठाता उद्यान एवं वानिकी महाविद्यालय डॉ संजय पाठक, उपनिदेशक शोध शंभू प्रसाद गुप्ता, विभागाध्यक्ष डॉ जी सी यादव, डॉ प्रदीप कुमार एवं तकनीकी सहायक डॉ डी पी मिश्रा समेत विभाग के अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel