गंगा खतरे के निशान से ऊपर, कटरी में मुसीबत

गंगा खतरे के निशान से ऊपर, कटरी में मुसीबत

ब्लाक में पानी घटने की सूचना ने लोगों के लिए कुछ राहत भरी हो सकती है।


स्वतंत्र प्रभात 

उन्नाव। गंगा नदी का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर 113.04 मीटर पर पहुंच गया है। शुक्रवार से जलस्तर स्थिर है। लेकिन तटवर्ती इलाकों में घुसा बाढ़ का पानी किसानों को एक बार फिर सालों पीछे छोड़ गया है। खेत में खड़ी फसलें बर्बाद हो चुकी हैं। गांव घर तक पहुंचा पानी लोगों के पलायन का कारण बन चुका है। हालांकि इस बीच गंजमुरादाबाद, फतेहपुर चौरासी ब्लाक में पानी घटने की सूचना ने लोगों के लिए कुछ राहत भरी हो सकती है।

 इस सब के बीच प्रशासन से लेकर जनप्रतिनिधि तक ने प्रभावित लोगों की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया है। 13 सेंटीमीटर गिरा गंगा का जलस्तर, मुसीबतें बरकरार शुक्लागंज में गंगा के बढ़े जलस्तर के कारण नगर का धोबिन पुलिया स्थित धोबीघाट डूब गया है। वहीं शारदानगर, गायत्रीनगर, भातूफार्म, अंबिकापुरम मुहल्लों तक बाढ़ का पानी पहुंच चुका है। बस्तियों में बाढ़ का पानी भर जाने से जनजीवन अस्त व्यस्त है।


 श्रीनगर, गंगानगर, सीताराम कालोनी, मनोहरनगर, बालूघाट, शक्तीनगर, इंदिरानगर, बहादुर बगिया, रविदासनगर, आलमनगर, चंपापुरवा, गोताखोर, नेतुआ, पोनीरोड, राजीवनगर खंती के पीछे वाले हिस्से समेत लगभग दो दर्जन से ज्यादा मुहल्लों में बाढ़ का पानी भरा है। सदर तहसील के परियर, देवीपुरवा, पनपथा, माना बंगला, बाबू बंगला, ललतू पुरवा, बंदन पुरवा, जुड़ापुरवा, कोलवा, बसधना आदि गांव बाढ़ की चपेट में अब तक आ चुके हैं।

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Online Channel